अयोध्या : पंच परमेश्वर द्वारा मनरेगा व पीएम आवास का सत्यापन शुरू

मवई ब्लॉक क्षेत्र के प्रत्येक ग्राम पंचायत पंच परमेश्वर कर रहे मनरेगा कार्यो की ऑडिट।शोशल आडिट टीम गांव में बैठक कर ग्रामीणों से कर रहे सवाल जवाब।

मवई(अयोध्या) ! मवई ब्लॉक क्षेत्र में इस गांव में मनरेगा योजना अंतर्गत हुए विकास कार्यो की ऑडिट शुरू हो गई है।टीम गांव गांव पहुंच मनरेगा कार्यो का सत्यापन करने के साथ ही ग्रामीणों की चौपाल भी लगा रहे है।चौपाल में मनरेगा के कार्यों व प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना 2018-19 के लाभार्थियों का सत्यापन करने के साथ साथ दोनो योजनाओं का भौतिक सत्यापन भी ये पंच टीम कर रही है।
जानकारी के मुताविक गांवो में आडिट के लिए प्रत्येक सात ग्राम पंचायतों पर एक सोशल ऑडिट टीम का गठन किया गया है।प्रत्येक टीम में चार सदस्य होंगे।इस टीम की निगरानी के लिये एक पर्यवेक्षक भी तैनात किए गए है।
बताते चले मनरेगा के भुगतान और फर्जीवाड़े तथा प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास में ग्राम प्रधानों द्वारा की जाने वाली अनियमितताओं एवं कार्योँ में होने वाली गड़बड़ियों की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए शासन ने प्रत्येक 7 गांव पर एक सोशल ऑडिट टीम गठित की है।इस टीम में चार सदस्य व पर्यवेक्षक होंगे, जो मनरेगा से संबंधित प्रत्येक गतिविधि की पड़ताल करेंगे।इन पांच सदस्यों में सामान्य वर्ग, पिछड़ा वर्ग व एससी/एसटी वर्ग का एक-एक सदस्य होगा।इनके अलावा एक महिला व एक श्रमिक सदस्य होगा।यह वह श्रमिक होगा जो मनरेगा के तहत कम से कम 15 दिन तक काम कर चुका होगा।श्रमिक के अलावा प्रत्येक सदस्य को कम से कम हाईस्कूल पास होना अनिवार्य है।

ऑडिट टीम 234 विन्दुओं की करेगी समीक्षा।

गांव समाज के लोगों से बनी चार सदस्यीय टीम मनरेगा से सम्बंधित 234 विन्दुओं पर ग्रामीणों से सवाल करेगी।ग्रामीणों की सहमति व असहमति को नोट करने के बाद उसकी रिपोर्ट ब्लॉक कोआर्डिनेटर के जरिये जिला मुख्यालय भेजेगी।ब्लॉक कोआर्डिनेटर ने बताया ऑडिट टीम पहले अभिलेखीय अवलोकन फिर कार्यो का भौतिक सत्यापन और फिर मनरेगा मजदूरों के साथ बातचीत के बाद निश्चित तिथि पर खुली बैठक कर कमियों को पकड़ने के बाद ग्रामीणों से भी प्रत्येक कार्य पर उसकी सहमति जानेगी।

शोशल ऑडिट टीम की सात ब्लॉक के कोआर्डिनेटर करेंगे निगरानी।

गांवो में मनरेगा व ग्रामीण पीएम आवास की ऑडिट के लिये मवई ब्लॉक क्षेत्र में लगी सात पांच परमेश्वर टीम की निगरानी के लिये जिले के उच्च अधिकारियों के साथ सात ब्लॉक के कोआर्डिनेटर को भी पर्यवेक्षण कर कार्य भी सौंपा गया है।जो अपनी टीम की रिपोर्ट को संकलित कर जिला कोआर्डिनेटर को सौपेंगे।ये जानकारी मवई ब्लॉक कोआर्डिनेटर मो0 खालिद ने दी।

ऑडिट के नाम पर हो रही फर्जअदायगी

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मवई ब्लॉक क्षेत्र में अब तक अशरफनगर अशरफपुर गंगरेला भटमऊ नरायनपुर बाबूपुर बसौड़ी बरतरा बरौली में सहित लगभग 24 गांवो की ऑडिट टीम द्वारा खुली बैठक आयोजित की गई।जो महज एक दो घंटे में ही निपटा दी गई।खुली बैठक में कम ग्रामीणों की संख्या भी लोगों में जागरूकता के अभाव को दर्शाती है।ऑडिट भी कुछ बिंदुओं पर चर्चा कर महज फर्ज अदा कर टीम वापस चली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News