डिवाईडर इन चीफ’ बताने वाली ‘TIME’ के बदले सुर, चुनाव नतीजों के बाद मोदी को बताया देश को जोड़ने वाला पीएम

लोकसभा चुनाव के दौरान अमेरिकी मैगजीन टाइम के कवर पेज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘डिवाईडर इन चीफ’ बताया था, लेकिन इस मैगजीन ने अब अपने सुर बदल लिए हैं। उसने चुनाव परिणाम के तत्काल बाद पलटी मारते हुए एक रिपोर्ट जारी की है, जिसका शीर्षक है, “मोदी ने भारत को इतना एकजुट किया, जो कि दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया।”

लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत और नरेंद्र मोदी की स्वीकार्यता के बाद टाईम मैगजीन ने पलटी मारते हुए पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधने वाला एक लेख अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया है। इस नये लेख में कहा गया है कि मोदी ने भारत को जिस तरह से एकजुट किया है वैसा दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाया है। इस लेख में पिछली बार के मुकाबले यू-टर्न है। लेकिन इस बार ये लेख मैगजीन की कवर स्टोरी पर नहीं है। इस लेख को मनोज लाडवा ने लिखा है। बता दें कि मनोज लाडवा इंडिया ग्लोबल बिजनेस प्रकाशित करने वाली ब्रिटेन की मीडिया कंपनी इंडिया इंक के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) हैं।

इस लेख में एक सवाल पूछा गया है कि, “कैसे यह कथित विभाजनकारी शख्सियत न केवल सत्ता में कायम रह पाया है, बल्कि उसके समर्थक और भी ज्यादा बढ़ गए हैं?” इसके लेखक, मनोज लाडवा ने मोदी के एकजुटता के सूत्रधार के रूप में उभरने का श्रेय उनके पिछड़ी जाति में पैदा होने को दिया है।

मनोज लाडवा के इस लेख में जिक्र किया गया है कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान भारतीय इतिहास में सबसे ज्यादा अपमानजनक, चोट पहुंचाने वाले और निम्न स्तर के भाषा का प्रदर्शन हुआ। लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी और बीजेपी उनकी नीतियों को कई लेकर कई आलोचनाएं भी झेलनी पड़ीं। लेकिन पिछले पांच दशकों में कोई भी ऐसा प्रधानमंत्री भारत ने नहीं देखा, जिसने देश को चुनाव के दौरान एकजुट कर लिया हो।

इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान टाइम ने पीएम मोदी को अपने कवर पेज पर जगह दी थी। इसमें मैगजीन ने पूछा था, क्या विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र फिर से मोदी को पांच साल का मौका देने को तैयार है? मैगजीन ने अपने कवर पेज पर ‘इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ शीर्षक से मोदी का फोटो लगाया था। मोदी पर आधारित यह लेख आतिश तासीर ने लिखा था।

भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के दिवंगत गवर्नर सलमान तासीर के ब्रिटेन में जन्मे बेटे तासीर ने कवर स्टोरी में लिखा था, “मोदी का आर्थिक करिश्मा ही साकार होने में असफल नहीं रहा, बल्कि उन्होंने भारत में जहरीले धार्मिक राष्ट्रवाद का माहौल बनाने में भी मदद की है।”

हकीकत में, टाइम एक संकटग्रस्त पत्रिका है जिसका स्वामित्व एक ही साल में दो हाथों में जा चुका है। पिछले साल मार्च में इसे बेटर होम्स और गार्डन्स जैसी मैग्जीन्स के प्रकाशक मेरेडिथ ने खरीदा था और उसके बाद सितंबर में यह फिर बिकी, जब इसे सेल्सफोर्स के संस्थापक और टेक उद्यमी मार्क बेनिऑफ और उनकी पत्नी ने खरीदा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News