शर्मनाक: गोंडा में बलात्कार पीड़िता ने पुलिस से इंसाफ नहीं मिलने पर दी जान

कोतवाली करनैलगंज क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 35 वर्षीय महिला का पति रोजी-रोटी के लिए रोहतक हरियाणा में रहता था. महिला का आरोप था कि उसके गांव के ही रहने वाले दो सगे भाईयों ने मिलकर खुद को तांत्रिक विद्या का जानकार बताते हुए उसे बताया कि था कि उसका पति एक दूसरी महिला के जाल में फंसा है और वह तंत्र विद्या से उसके पति को दूसरी महिला के जाल से छुड़ा देंगे. यह झांसा देकर दोनों सगे भाईयों ने उसके साथ 7 फरवरी, 2018 को बलात्कार किया. इसके बाद दोनों ने बलात्कार का वीडियो वायरल करने की धमकी देते हुए कई बार बलात्कार किया. महिला ने अपने पति को सारी बात बताई. इसके बाद सोमवार को पीड़िता ने फांसी लगाकर जान दे दी. पीड़ित महिला सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस की ओर से फाइनल रिपोर्ट लगाए जाने से आहत थी. जिसके बाद मामले में कार्रवाई करते हुए एसपी ने दोनों विवेचकों और इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया है. साथ ही लापरवाही बरतने के आरोपी कोतवाल करनैलगंज को लाइन हाजिर कर दिया

न्याय मिलने से क्षुब्ध होकर की आत्महत्या

7 अगस्त 2018 को महिला ने कोतवाली करनैलगंज में श्याम कुमार उर्फ बुधई और उसके भाई शंकर दयाल उर्फ बल्लू के खिलाफ गैंगरेप, धमकी व आईटी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कराई थी. मामले की विवेचना कर रहे तत्कालीन इंस्पेक्टर क्राइम करनैलगंज अजीत प्रताप सिंह ने इसमें फाइनल रिपोर्ट लगा दी. तत्कालीन एसपी लल्लन सिंह ने विवेचना क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर परमानंद तिवारी को दे दी थी. उन्होंने भी मामले में फाइनल रिपोर्ट लगा दी. पीड़िता, अधिकारियों के पास न्याय पाने के लिए भटकती रही, मगर कोई सुनवाई नहीं हुई. इससे क्षुब्ध पीड़िता ने सोमवार को घर में छत में लगे हुक के सहारे फंदे से लटककर जान दे दी. महिला के पति ने बताया कि कहीं से न्याय न मिलने से क्षुब्ध होकर उसकी पत्नी ने आत्महत्या कर ली. इसकी जानकारी मिलते ही एसपी आरपी सिंह ने विवेचक इंस्पेक्टर अजीत प्रताप सिंह व परमानंद तिवारी को सस्पेंड कर दिया है. वहीं, एसपी ने कोतवाल वेद प्रकाश श्रीवास्तव को लापरवाही बरतने के आरोप में लाइन हाजिर कर दिया है.

विधानसभा पर दिया धरना, सीएम आवास पर आत्मदाहकी कोशिश

न्याय न मिलने से आहत दुष्कर्म पीड़िता ने 15 सितम्बर 2018 को लखनऊ में विधानसभा के सामने धरना दिया था. मगर पुलिस कर्मियों ने उसे वहां से हटा दिया. इसके बाद वह मुख्यमंत्री आवास के सामने पहुंची और केरोसिन डालकर आत्मदाह का प्रयास किया. मगर यहां भी पुलिस कर्मियों ने उसे पकड़ लिया और न्याय दिलाने का आश्वासन देकर गोंडा भेज दिया था

हंगामे पर बुलानी पड़ी कई थानों की पुलिस

करनैलगंज में पीड़ित महिला द्वारा आत्महत्या के बाद परिवार के लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया. जिसके चलते सीओ सदर महावीर सिंह, कोतवाल करनैलगंज वेद प्रकाश श्रीवास्तव, थानाध्यक्ष परसपुर बीएन सिंह, थानाध्यक्ष कटरा बाजार दद्दन सिंह, थानाध्यक्ष कौड़िया, उमरी बेगमगंज शैलेश सिंह समेत कई थानों की पुलिस मौके पर बुलानी पड़ी. परिवार के लोगों ने आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होने तक महिला का शव देने से इनकार कर दिया. अधिकारियों के आश्वासन के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News