स्वयं फावड़ा उठाकर जय तमसा मैया के उदघोष के साथ तमसा नदी की खुदाई का डीएम अयोध्या ने किया श्रीगणेश।

डीएम डा0 अनिल पाठक की अनूठी पहल अतित्व में आएगी तमसा नदी।

मवई ब्लॉक में बसौड़ी ग्रामसभा में भारी जनसमूह के बीच समारोहपूर्वक तमसा नदी के जीर्णोद्धार का डीएम ने किया शिलान्यास।

मवई(अयोध्या) ! जिलाधिकारी डॉ अनिल कुमार पाठक ने आज जिले में एक अनूठी पहल करते हुए आज बुधवार को वैदिक मंत्रोच्चार व जय तमसा मैया उदघोष के साथ तमसा नदी के जीर्णोद्धार का शिलान्यास किया गया।मवई ब्लाक के ग्रामसभा बसौड़ी व लखनीपुर के मध्य बरतरा गांव के समीप तमसा नदी के उद्गम स्थल पर आयोजित शिलान्यास समारोह में डीएम ने जिले के अन्य अफसरों के साथ फावड़ा से अस्तित्व विहीन तमसा नदी की तलहटी खोदकर जीर्णोद्धार का कार्य शुरू कराया।डीएम ने बताया इस योजना के तहत 148 किलोमीटर लंबी तमसा नदी का जीर्णोद्धार होगा।इस दौरान तमसा नदी के तट पर लोगों द्वारा कब्जा किया गया है जिसे इस कार्यक्रम के दौरान खाली कराकर पौराणिक तमसा नदी को पुनर्जीवित करने का शुभ कार्य आज से शुरू हो गया है।

बता दे तमसा महानदी का उद्गम स्थल ग्राम पंचायत बरौली व बरतरा गांव के मध्य स्थित गाटा संख्या 903 से ही माना जाता है क्योंकि नदी का कोई नंबर राजस्व अभिलेखों में नहीं दर्ज है यह एक दूसरे से सटे हुए कई छोटे बड़े तालाबों और नालों से होती हुई बहती है जो कहीं कहीं दो गांव या दो ब्लाकों की सीमा से बहती हुई जाती है यह नदी अपने उद्गम स्थल से इस ब्लॉक मवई की सीमा में बसौड़ी से निकलकर लखनीपुर बीबीपुर होलूपुर बरौली करौंदी होते हुए रूदौली ब्लाक के भदावल कोलवा बरिया से होते हुए अमानीगंज सोहावल मिल्कीपुर मसौधा बीकापुर तारून ब्लॉक से निकलकर अंबेडकरनगर जनपद के कटेहरी के आगे श्रवण क्षेत्र के पास विसुही नदी में मिल जाती है इस नदी के उत्तर दिशा में घाघरा नदी और दक्षिण दिशा में गोमती नदी अपने मूल रूप में बहती है।तमसा दोनों नदियों के बीच के क्षेत्र के जल निकासी का एक महत्वपूर्ण अंग है।जो विगत कई वर्षों से नदी की सफाई न कराए जाने के कारण ब्लॉक में दो बटे तीन भाग में लुप्त है।कहीं-कहीं छोटे-छोटे तालाबों के रूप में है तो कहीं कहीं इसके प्रभाव के क्षेत्र में कई किसान खेती करते हैं।इसका आंतरिक भाग पूर्णतया पतला हो गया है और तलहटी का भी ढाल नियमित नहीं है तलहटी में अनेक जंगली घास पौधे उग आने से पानी की निकासी नहीं हो पा रही है।नदी के जल निकासी की क्षमता बढ़ाने बर्बाद होने से बचाने के लिए नदी की सफाई एवं गहरीकरण का कार्य कराया जाना नितांत आवश्यक था।इसलिये परियोजना के पूर्ण होने पर आशा की जाती है कि नदी के आस-पास के गांव में जल संवर्धन की क्षमता बढ़ेगी।जिससे फसलों के उत्पादन में भी इजाफा होगा।

डीएम अनिल पाठक ने वताया महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम एवं राज्य वित्त व 14 वित्त के तहत पौराणिक नदी तमसा का जीर्णोद्धार के परिपेक्ष्य आज समारोह पूर्वक शिलान्यास कर नदी कु खुदाई का कार्य शुरू करा दिया गया है।ये समारोह मुख्य अतिथि डॉक्टर अनिल कुमार जिलाधिकारी,विशिष्ट अतिथि मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक आनंद,उपायुक्त श्रम रोजगार नागेंद्र मोहन राम त्रिपाठी,सिचाई विभाग के अधिशाषी अभियंता मनोज सिंह,डीएफओ डा रवि सिंह की उपस्थिति में संपन्न हुआ।इस अवसर पर मवई खंड विकास अधिकारी कृष्णा,तकनीकी सहायक आशीष तिवारी प्रभाकर,रमेश तिवारी,ग्राम विकास अधिकारी लालजी चौरसिया शंभूनाथ पाठक,प्रवीण कुमार,ग्राम प्रधान जुगरा देवी,फहीम अहमद खान,मोहम्मद काशिफ,खुशनुमा बानो,अकील खा, नसीम खा, संजय कुमार,भाजपा जिला मंत्री धर्मेंद्र सिंह,निर्मल शर्मा,महेंद्र पांडेय,राजेश यादव,डा0 विनोद मिश्र,सुनील मिश्र,तेज तिवारी,मंसाराम मौर्या आदि भारी संख्या में लोग उपस्थिति रहे।

11 सौ मजदूरों से शुरू हुई तमसा की खुदाई।

आज तमसा नदी के जीणोद्धार के शिलान्यास अवसर पर डीएम अनिल पाठक ने नदी की खुदाई का उद्घाटन किया।तत्पश्चात युद्ध स्तर पर तमसा की खुदाई प्रारंभ हुई।मवई खंड विकास अधिकारी कृष्णा ने बताया आज शुभारंभ अवसर पर चार न्यायपंचायत के 16 ग्रामसभाओं के 11 सौ मनरेगा श्रमिकों द्वारा नदी की खुदाई का कार्य शुरू कराया गया।

23 करोड़ रुपए से अस्तित्व में लाई जाएगी तमसा।

जिलाधिकारी डॉक्टर अनिल कुमार पाठक की अगुवाई में शुरू हुई तमसा नदी के जीर्णोद्धार का कार्य बरसात से पूर्व ही पूरा कर लिया जाएगा डीएम ने बताया कि नदी के जीर्णोद्धार के लिए 23 करोड रुपए का बजट मिला हुआ है जिसके तहत जीर्णोद्धार का कार्य आज से शुरू कर दिया गया है।डीसी मनरेगा नागेंद्र मोहन राम त्रिपाठी ने बताया कि आज से तमसा नदी के उद्गम स्थल से जीर्णोद्धार का कार्य शुरू हो गया है जनपद के सभी ब्लॉक क्षेत्रों से गुजरी तमसा नदी पर जगह-जगह युद्ध स्तर पर काम शुरू कराया जाएगा।बरसात से पूर्व तमसा नदी के जीर्णोद्धार का प्रथम लक्ष्य पूरा हो जाएगा।

तेज काम करने वाले ग्राम पंचायतों को डीएम देंगे पंचायत भवन की सौगात।

समारोह के दौरान डीएम ने डीसी मनरेगा नागेंद्र मोहन राम त्रिपाठी को निर्देश देते हुए कहा कि तमसा नदी के जीर्णोद्धार में लगे ग्राम पंचायतों के मनरेगा श्रमिक जितनी जल्दी अपने लक्ष्य को पूरा कर लेंगे।वे पुरस्कार का लाभ उठा सकते है।इन्होंने बताया कि तमसा के कार्य में समय से पहले लक्ष्य को पूरा करने वाली ग्राम पंचायत को आंगनबाड़ी भवन या पंचायत भवन की सौगात दी जाएगी।डीसी मनरेगा ने बताया जनपद अयोध्या में 155 किलोमीटर लंबी है तामस नदी जो।जनपद के 10 विकासखंडों से होकर गुजरती है।ग्राम पंचायत स्तर पर एक साथ कार्य शुरू होगा।इन्होंने बताया डीएम ग्राम पंचायतों में प्रतियोगिता करा रहे है।इस प्रतियोगिता में सबसे पहले अच्छा काम करने वाले ग्राम पंचायतों को दिया जाएगा पंचायत भवन व आंगनबाड़ी केंद्र की सौगात दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News