अयोध्या में तैयार किया जाएगा रामायण क्रूज का फस्ट फ्लोर

अयोध्या में तैयार किया जाएगा रामायण क्रूज का फस्ट फ्लोर.
तकनीकी सर्वे कर रही IWAI की टीम.

अयोध्या

गुप्तार घाट से अयोध्या तक पर्यटकों को आध्यात्मिक नगरी की सैर कराने वाले रामायण क्रूज को लाने की योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है। कोलकाता के कोचीन शिपयार्ड में लगभग सात करोड़ की लागत से तैयार होने वाले दो मंजिला लग्जरी क्रूज के भूतल और प्रथम तल का निर्माण शिपयार्ड में ही किया जाएगा, लेकिन प्रथम तल का हिस्सा अयोध्या में लाकर जोड़ा जाएगा। इस कार्य को करने के लिए कोचीन शिपयार्ड के बिल्डर्स की टीम अयोध्या आएगी।
माना जा रहा है क्रूज की लांचिंग के बाद अयोध्या में वाराणसी की तरह विदेशी पर्यटकों की आमद रफ्तार बढ़ जाएगाी। यहीं नहीं राम मंदिर के साथ अयोध्या की सुंदरता, उसके वैभव और पौराणिकता को करीब से देखने, जानने और आत्मसात करने के लिए श्रद्धालुओं की संख्या में भी तेजी के साथ इजाफा होगा। सरकार भी अयोध्या में विकास की तमाम योजनाओं पर काम कर रही है। सरयू नदी के रास्ते गुप्तारघाट से अयोध्या तक 10 किलोमीटर के इस हिस्से को सुंदरता प्रदान करने की भी योजना है। अभी तक सिर्फ नाव और छोटे स्टीमर से लोग नदी की सैर कर अयोध्या को निहारते रहे हैं। क्रूज के आने के बाद यह तस्वीर बदल जाएगी।
राष्ट्रीय जलमार्ग से होते हुए अयोध्या पहुंची इनलैंड वाटरवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आइडब्ल्यूएआइ) की टीम सरयू नदी का तलस्पर्शी तकनीकी सर्वे कर रही है। पिछले 24 घंटे में टीम ने सरयू नदी में गुप्तार घाट से अयोध्या की ओर दो किलोमीटर का सर्वे कार्य पूर्ण कर लिया है। मंगलवार को टीम ने इसके आगे का सर्वे शुरू किया। अयोध्या पहुंचने से पहले ही टीम ने संगम स्थल से अयोध्या तक रास्ते में पड़ने वाले सभी पुलों का बारीकी से अध्ययन किया। पुलों की नदी तल से ऊंचाई और दो पिलर के बीच दूरी की नाप जोख पूरी कर ली गई है। नार्डिंक क्रूज लाइन प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर विकास मालवीय की माने तो क्रूज कोलकाता से गंगा के रस्ते बिहार के छपरा स्थित घाघरा-गंगा संगम स्थल तक पहुंचेगा और फिर राष्ट्रीय जलमार्ग-40 के रास्ते से अयोध्या तक लाया जाएगा, जहां शेष निर्माण कार्य को शिप बिल्डर्स पूरा करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News