अयोध्या : राष्ट्रीयता हमारे खानदान में है जनता की सेवा के लिये भाजपा में हुई सामिल-रत्ना सिंह

मवई क्षेत्र के उमापुर में आयोजित एक वैवाहिक समारोह में सामिल होने आई थी प्रतापगढ़ की राजकुमारी रत्ना सिंह,कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में सामिल होने के बाद पहली बार अयोध्या जिले में आई रत्ना सिंह का दयानंद शुक्ल की अगुवाई में क्षेत्रवासियों ने किया भव्य स्वागत।

मवई(अयोध्या) ! पूर्व सांसद राजकुमारी रत्ना सिंह भले ही कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हो गयी हैं लेकिन उनका कांग्रेस पार्टी के प्रति अभी भी सम्मान है।गुरुवार की शाम को मवई ब्लाक के ग्राम उमापुर में पीसीसी सदस्य दयानन्द शुक्ला के यहाँ आयोजित वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिये जाते समय रानीमऊ स्थित निर्मल कुटिया पर पत्रकारों से बात चीत करते हुए राजकुमारी रतना सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में उन्हें काफी सम्मान मिला लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में भाजपा में ही रहकर जनता की सेवा की जा सकती है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी काफी कमजोर हो चुकी है निकट भविष्य में कांग्रेस पार्टी की सत्ता में वापसी असंभव है।कांग्रेस तथा भाजपा में अंतर के सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा का संगठन काफी मजबूत हो चुका है जबकि कांग्रेस में संगठन के नाम की कोई चीज नही है।कांग्रेस पार्टी छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरा परिवार एक देश भक्त परिवार है वह एक ऐसा परिवार है जिसने जनता की सेवा की है देश की सेवा की है राष्ट्रीयता हमारे कण कण में है।हम लोगों को अपने क्षेत्र के लिये अपने प्रदेश के लिये तथा देश के लिये काम करना चाहते हैं हमको व मेरे परिवार को लगा कि भाजपा ही एक ऐसी पार्टी है जिसमे शामिल होकर अपने क्षेत्र के लिये अपने प्रदेश के लिये तथा अपने देश के लिये काम किया जा सकता है।अयोध्या मसले पर आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि अयोध्या वासियों को गर्व महसूस करना चाहिए कि जिनकी वजह से अयोध्या जानी जाती है उन प्रभु राम के मंदिर के निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया है।उन्होंने कहा कि अयोध्या ही नही बल्कि सम्पूर्ण हिंदुस्तान के सुपर हीरो श्री राम है ऐसे में उनका मंदिर बनाने से बड़ी खुशी हो रही है।इस मौके पर साल ओढ़ा कर स्वागत किया।

तीन बार सांसद रह चुकी राजकुमारी रत्ना सिंह

राजकुमारी रत्ना सिंह पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय राजा दिनेश सिंह की पुत्री हैं।राजा दिनेश सिंह प्रतापगढ़ से चार बार और उनकी पुत्री राजकुमारी रत्ना सिंह तीन बार 1996,1999 और 2009 में सांसद रह चुकी हैं।बीते लोकसभा चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी रह चुकीं राजकुमारी रत्ना सिंह को हार का सामना करना पड़ा था।जिसके बाद रत्ना सिंह ने कांग्रेस छोडक़र भाजपा का दामन थाम लिया।भाजपा में सामिल होने के बाद वो पहली बार अयोध्या जिले में एक वैवाहिक समारोह में शिरकत करने मवई आई।

देश में मोदी-योगी जैसा राष्ट्रभक्त कोई नहीं : रत्ना

भाजपा में सामिल होने के बाद पहली बार अयोध्या आई पूर्व सांसद रत्ना सिंह ने हिन्दुस्तान से बातचीत के दौरान कहा कि देश में मोदी-योगी जैसा राष्ट्रभक्त कोई नहीं है। नि:स्वार्थ भाव से देश की सेवा करने वाले महापुरुष का हौसला बढ़ाने के लिए ही मैने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया था। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय जनता की यह आवाज थी कि मैं भाजपा में शामिल हो जाऊं। मैंने जनता के फैसले के मुताबिक कदम उठाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News