तो गांव गांव जन चौपाल लगाकर पुलिस जनता को भी बनाएगी हाईटेक

सीओ की अध्यक्षता में पटरंगा थाने में सम्भ्रांत नागरिकों व पुलिस मित्रों की हुई बैठक,सीओ धर्मेंद्र यादव ने कहा कि बदलते समय के अनुसार अब कम्युनिटी पुलिसिंग पर दिया जा रहा जोर।

पटरंगा(अयोध्या) ! प्रदेश व देश का निजाम तो बदल गया।इसके बाद पुलिस संस्थान का रवैय्या भी अब बदलने लगा है।थाने में बैठकर किसी को भी थाने उठा लाने का हुक्म सुनाने वाले थानेदार अब गांव गांव दस्तक देकर जनचौपाल लगाएंगे और जनता से अच्छा संवाद व व्यवहार कर उन्हें हाईटेक भी करेंगे।जिससे व्यक्तियों की तत्काल मदद भी मिल सके।

बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया को एक कदम आगे बढ़ाने के लिए प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह नेे एक यूपी पुलिस कॉप एप का संचालन शुरू किया है।जिसके जरिये अब पीडि़तों को एफआइआर दर्ज कराने के लिए थाने के चक्कर नही लगाने पड़ेंगे बल्कि घर बैठे ही अपने मोबाइल के जरिए अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है।इसी एप के बारे में जानकारी देने के लिए पटरंगा थाना परिसर में सीओ रुदौली डा0 धर्मेंद्र यादव की अध्यक्षता में सम्भ्रांत नागरिकों पुलिस मित्रों व ग्राम प्रधानों के एक बैठक आयोजित किया गया।जिसमें सीओ रुदौली ने उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से जानकारी दिया और बताया कि अब आप घर बैठे e-fir के जरिए केस दर्ज करा सकते हैं बताया कि एंड्राइड मोबाइल के जरिए ईकॉप एप्लीकेशन से 27 प्रकार की सेवाओं का लाभ आसानी से उठा सकते हैं इसके लिए आपको थाने और अधिकारियों के चक्कर नहीं लगाने होंगे।इस दौरान बैठक में मौजूद कुछ लोग जो विभिन्न त्योहारों को सकुशल शांतिपूर्वक सम्पन्न कराने व घटनाओं की शीघ्र सूचना मिलने में पुलिस के सहयोगी रहे। ऐसे 24 लोगों को रूदौली सीओ धर्मेन्द्र यादव नें गुलाब का फूल देकर सम्मानित किया।तत्पश्चात सभी एक साथ भोजन भी किया।इस मौकें पर पटरंगा थानाध्यक्ष संतोष सिहं,एसआई अभिषेक विजय त्रिपाठी,पवन राठौर मिथुन चंद्रा सचान द्रवेश त्रिवेदी,सुधीर कुमार,दीपेन्द्र विक्रम सिंह,प्रधान नसीम खां,सतीश यादव,प्रभात वर्मा व अजय कुमार सहजराम धर्मेंद्र सिंह,मो0 अतहर विजय सरोज उमेश सिंह संतोष सरोज राम लौटन आदि लोग मौजूद रहे।

प्ले स्टोर पर सर्च करना होगा यूपी कॉप

पटरंगा थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि एप डाउनलोड करने के लिए एंड्रायड मोबाइल फोन के प्ले स्टोर पर यूपी कॉप सर्च करना होगा। डाउनलोड होने के बाद खुद का पंजीकरण अनिवार्य होगा। एप स्टाल करने के बाद व्यक्ति को अपनी सेल्फ आइडी क्रिएट करनी होगी। आइडी के लिए व्यक्ति को एप पर नया पंजीकरण कराना होगा। यहां नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आदि का डाटा फीड करना होगा। उसके बाद आइडी क्रिएट होगी। आइडी क्रिएट होने के बाद इसे लागिन किया जाएगा। लागिन करने पर पासवर्ड डालते ही रजिस्टर्ड मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा। यह ओटीपी देते ही लागिन हो जाएगा।

ई-एफआइआर और आप्शन

एप के जरिए व्यक्ति वाहन चोरी, वाहन लूट, स्नैचिंग, नकबजनी, बच्चों की गुमशुदगी, लूट, डकैती और साइबर क्राइम जैसे अपराध की ई-एफआईआर दर्ज कराई जा सकती है। इसके अलावा करेक्टर सर्टिफिकेट, डोमेस्टिक हेल्प वेरीफिकेशन, इम्प्लाई वेरीफिकेशन, टीनेंट वेरीफिकेशन, प्रोसेशन रिक्वेस्ट, प्रोटेस्ट या स्ट्राइक रिक्वेस्ट, इवेंट परफॉर्मेस, फिल्म शूटिंग, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, सीनियर सिटीजन, शेयर इन्फॉरमेशन, रिपोर्ट मिसबिहेवियर, सर्च स्टेटस, इमरजेंसी हेल्पलाइन, अनआईडेंटीफाइड डेड बॉडीज, मिसिंग पर्सन, रिवार्डेड क्त्रिमिनल्स, अरेस्टेड एक्यूज्ड, साइबर अवेयरनेस के ऑप्शन मौजूद हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News