CM ने उठाये ईमानदारी पर सवाल तो भिड़ गई IPS, जड़ा मंत्री को थप्पड़

0

पुलिस पर हमेशा से ही राजनीतिक दबाव रहता है, जिसके चलते पुलिस अपने कर्तव्यों से विमुख हो राजनेताओं के लिए काम करती नजर आती है लेकिन देश में एक ऐसी आईपीएस अफसर भी है जिसने राजनीतिक दबाव के सामने न तो खुटने टेके और न राजनेताओं की चातुकारिका कर अपने कर्तव्यों से मुंह मोड़ा, बल्कि अपने काम में रोड़ा बन रहे मंत्री तक थप्पड़ तक जड़ दिया था। इतना ही नहीं उस ईमानदार अफसर ने अपने ऊपर भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर मुख्यमंत्री तक को नहीं बख्शा।

जनता के दिल में बसतीं है IPS सोनिया नारंग:

हम बात कर रहे हैं कर्नाटक में कार्यरत आईपीएस अफसर सोनिया नारंग की। सोनिया नारंग वो अफसर हैं, जिनकी इमानदारी के सामने मुख्यमंत्री और मंत्री तक नहीं टिक सकते। और यहीं वजह है कि सोनिया जनता के दिल में बसतीं हैं।

CBI जांच से ज्यादा सोनिया की जांच पर है भरोसा:

कर्नाटक की जनता सीबीआई की जांच पर सवाल उठा सकती है परंतु सोनिया नारंग की जांच पर नहीं। बीजेपी के नेता को जड़ चुकी हैं थप्पड़ : सोनिया अपनी 13 साल की नौकरी में कर्नाटक के कई बड़े शहरों में तैनात रहीं। इस दौरान वह जहां भी गईं, अपराधियों को भागने पर मजबूर कर दिया।

जड़ दिया था भाजपा नेता को थप्पड़:

साल 2006 में एक कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस और बीजेपी के 2 कद्दावर नेता आपस में भिड़ गए थे, तब आईपीएस सोनिया ने बीजेपी के एक नेता रेनुकाचार्य को सरेआम थप्पड़ जड़ दिया था। हालांकि, बाद में यही नेता (रेनुका) मंत्री भी बने थे। उस वक्त सोनिया देवनगिरि जिले की एसपी थीं। उन्हें कई बार सम्मान मिल चुका है।

सीएम ने घसीटा था घोटाले में नाम :

मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने आईपीएस सोनिया का नाम 16 करोड़ के खदान घोटाले में लिया, तो राजनीतिक और प्रशासनिक गलियारे में हड़कंप मच गया। सीएम ने विधानसभा में घोटाले से जुड़े अधिकारियों के नाम उजागर किए थे। उनमें एक नाम सोनिया नारंग का भी था।

सोनिया ने मुख्यमंत्री के आरोपों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और खुलकर विरोध किया। उन्होंने कहा, मेरी अंतरात्मा साफ है आप चाहें तो किसी भी तरह की जांच करा लें, मैं इस आरोप का न सिर्फ खंडन करती हूं बल्कि इसका कानूनी तरीके से हर स्तर पर विरोध करूंगी। उन्होंने कहा कि मैंने अपने पूरे करियर में कानून को सर्वपरि माना है इसलिए किसी अवैध खनन को बढ़ावा देने या खनन माफिया से सांठ-गांठ का कोई सवाल ही नहीं है। सोनिया ने उस वक्त मुख्यमंत्री सिद्दारमैया से भी दो-दो हाथ करने के लिए कमर कस ली थी।

कौन हैं सोनिया नारंग :

सोनिया नारंग 2002 बैच की कर्नाटक की चर्चित आईपीएस अधिकारी हैं जो अपने फौलादी हौसले और काम के लिए जानी जाती हैं। लेकिन इसबार उन्होंने अपनी पूरी ताकत सरकार से दो-दो हाथ करने में झोंक दी है। उनके इस हौसले से जहां राजनीतिक और प्रशासनिक गलियारे में हड़कम्प मच गया है, वहीं आम जन में सोनिया के बारे में जानने की गजब की चाहत बढ़ गई है।

पंजाब युनिवर्सिटी से समाजशासत्र विषय में 1999 में गोल्ड मेडल हासिल करने वाली सोनिया नारंग खुद एक नौकरशाही की बेटी हैं।
सोनिया एक तरफ फौलादी इरादों की आईपीएस मानी जाती हैं तो दूसरी तरफ उन्हें पुलिस अधिकारियों में उनके व्यवहार और उनकी काबिलियत के लिए सम्मान भी मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News