भाजपा विधायक के पति व सपा के पूर्व विधायक की गुंडई सुरक्षा गार्ड की गन छीन तहसीलदार को पीटा

0

बहराइच ! उत्तर प्रदेश के नानपारा की भाजपा विधायक माधुरी वर्मा के पति व सपा के पूर्व विधायक दिलीप कुमार वर्मा ने शुक्रवार को सुबह नानपारा तहसीलदार मधुसूदन आर्या के साथ चेम्बर में घुसकर अभद्रता की ओर थप्पड़ जड़ दिया। बाहर आकर सुरक्षा गार्ड की गन छीन ली और बवाल काटा। उसके बाद समर्थकों के साथ वे नानपारा कोतवाली पहुंचे। वहां नानपारा के सीओ विजय प्रकाश के साथ नोकझोंक हुई। इसके बाद कोतवाली में धरने पर बैठ गए। पूर्व विधायक ने तहसीलदार पर कालर पकड़ने व दौड़ाकर फायर करने का आरोप लगाया है। दूसरी ओर राजस्व कर्मी पूर्व विधायक पर केस दर्ज करने व गिरफ्तारी की मांग पर अड़े हैं। नानपारा कोतवाली इलाका छावनी बन गया है।जानकारी के अनुसार पूर्व विधायक दिलीप कुमार वर्मा शुक्रवार की सुबह लगभग सवा 11 बजे तहसील परिसर पहुंचे, और एसडीएम सिद्धार्थ यादव के बारे में जानकारी ली। राजस्व कर्मियों ने बताया कि वह अवकाश पर हैं। जिस पर वह तहसीलदार के चेम्बर में पहुंचे। तहसीलदार मधुसूदन आर्या का आरोप है किपूर्व विधायक ने उनके साथ मारपीट की व सुरक्षा गार्ड की गन छीनकर जान से मारने की धमकी दी।इस घटना के बाद तहसीलदार जिला मुख्यालय पहुंचकर एडीएम रामसुरेश वर्मा से मिले और पूरे प्रकरण की जानकारी दी। जब इसकी जानकारी राजस्व कर्मियों को हुई, तो उन्होंने तहसील के सभी दफ्तरों में ताला बंद कर तहसील के सामने जाम लगा दिया। उनकी मांग है कि पूर्व विधायक के विरुद्ध केस दर्ज कर उनकी गिरफ्तारी की जाय।दूसरी ओर पूर्व विधायक अपने समर्थकों के साथ कोतवाली पहुंच गए। वहां मौजूद सीओ विजय प्रकाश से पूर्व विधायक की नोकझोंक हुई। जिस पर विधायक व उनके समर्थक कोतवाली परिसर में ही धरने पर बैठ गए।पूर्व विधायक का कहना है कि वह तहसीलदार के चेम्बर में गए तो तहसीलदार ने उनका कॉलर पकड़ लिया और मारने को दौड़ाया। उन पर अपने रिवाल्वर से फायर भी किया। उन्होंने कहा कि नानपारा इलाके में मुस्लिम समाज की बाहुल्यता है। उन्होंने मुस्लिमों, पिछड़ों व दलितों की राजनीति की है। तीन बार विधायक रहे हैं। उनकी पत्नी एक बार एमएलसी व अब भाजपा की विधायक हैं। सीओ विजय प्रकाश व उप निरीक्षक विपिन सिंह के रहते रबी उल अव्वल का पर्व शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न होना मुश्किल है। सीओ व उप निरीक्षक को तत्काल नानपारा से हटाया जाय। एडीएम रामसुरेश वर्मा तहसीलदार से मुलाकात के बाद नानपारा पहुंच गए हैं। स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। कोतवाली के आस पास की दुकाने बन्द हैं। पूरे नानपारा कस्बे में अफरा तफरी का माहौल है।

नानपारा तहसीलदार पिटाई प्रकरण में विरोध प्रदर्शन

बहराइच! पूर्व विधायक दिलीप कुमार वर्मा की ओर से नानपारा तहसीलदार की पिटाई का मामला तूल पकडता जा रहा है। शनिवार को जिले की सभी तहसीलों में कामकाज ठप रहा। पूर्व विधायक की गिरफ्तारी को लेकर अड़े राजस्व कर्मियों ने शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित धरना स्थल पर विरोध प्रदर्शन किया। राजस्व प्रशासनिक संघ की ओर से एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा गया है। जिसमें दिलीप वर्मा की गिरफ्तारी न होने तक काम ठप रखने की चेतावनी दी है। शनिवार को सुबह नानपारा तहसील परिसर में बाइक से डंडा लेकर पहुंच गए। जिससे नानपारा तहसील परिसर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है।नानपारा तहसील परिसर में शनिवार को सुबह लगभग साढ़े दस बजे हाफपेंट में हेलमेट लगाकर पूर्व विधायक बाइक से पहुंचे। उनके हाथ में डंडा था। उन्होंने तहसीलदार मदसूदन आर्या व हड़ताल के बारे में पूछताछ की। इसकी भनक लगते ही अफसरों में हड़कंप मच गया। तहसील परिसर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। दूसरी ओर जिला मुख्यालय के कलेक्ट्रेट स्थित धरना स्थल पर राजस्व प्रशासनिक संघ के अध्यक्ष व तहसीलदार सदर सतीश कुमार वर्मा के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन किया गया। उन्होंने स्पष्ट किया कि तहसीलदार आर्या के साथ की गई मारपीट मामले में नामजद आरोपी पूर्व विधायक की गिरफ्तारी न होने तक जिले की सभी तहसीलों में राजस्व कर्मी कार्य से विरत रहेंगे।इस अवसर पर नानपारा तहसीलदार मदसूदन आर्या, पयागपुर तहसीलदार शिवध्यान पांडेय, महसी तहसीलदार राजेश कुमार वर्मा, मिहींपुरवा तहसीलदार केशव प्रसाद, कैसरगंज नायब तहसीलदार विनोद कुमार सिंह, सदर नायब तहसीलदार रामचेत विश्वकर्मा व अन्य राजस्वकर्मी मौजूद रहे।

ताजी खबरों के लिये कृपया अपने यूट्यूब चैनल kkc न्यूज को सब्सक्राइब करें।

आखिरकार गिरफ्तार किए गए नानपारा के पूर्व विधायक।

बहराइच ! तहसीलदार की पिटाई के कथित मामले में पुलिस ने भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप वर्मा को शनिवार की देर रात्रि गिरफ्तार कर लिया है। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री के कड़े रुख के चलते पुलिस ने यह कार्रवाई की है।नानपारा तहसीलदार की पिटाई के मामले में तहसील कर्मी आंदोलित थे। शनिवार को जिले की छह तहसीलों के कर्मचारी कामकाज ठप कर कलेक्ट्रेट में धरना चला रहे थे। आंदोलित कर्मियों की मांग थी कि नानपारा की भाजपा विधायक माधुरी वर्मा के पति व पूर्व विधायक दिलीप वर्मा को गिरफ्तार किया जाए।नानपारा तहसीलदार मधुसूदन आर्या का कहना था कि वह शुक्रवार को एसडीएम की गाड़ी से तहसील गए थे। तहसील स्थित चैंबर में वे अपना कामकाज निपटा रहे थे। इसी दौरान पूर्व विधायक अपने समर्थकों के साथ पहुंचे और उनके साथ अभद्रता की। विरोध करने पर उनको थप्पड़ मार दिया। तहसीलदार की तहरीर पर पूर्व विधायक पर एससी-एसटी समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। सरकार के कड़े रुख को देखते हुए पुलिस ने पूर्व विधायक दिलीप वर्मा को जरवल से देर रात्रि गिरफ्तार कर लिया। बताते हैं कि गिरफ्तारी होने के बाद अस्वस्थता के चलते उन्हें लखनऊ इलाज के लिए भेजा गया है। एएसपी देहात ने पूर्व विधायक की गिरफ्तारी की पुष्टि की है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News