अयोध्या : नेपाल पीएम ओली के बयान से भड़का संत समाज

कहा, माफी मांगें नहीं तो छेड़ेंगे धार्मिक आंदोलन

अयोध्या ! नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने दावा किया कि भारत ने सांस्कृतिक अतिक्रमण के लिए नकली अयोध्या का निर्माण किया है जबकि, असली अयोध्या नेपाल में है। इस बयान के बाद भारत और रामलला की नगरी अयोध्या में उबाल आ गया है। अयोध्या की जनता और संत आक्रोशित हो उठे। सब ने एक सुर में कहा कि नेपाल पीएम केपी शर्मा ओली अपने इस गलत बयान पर माफी मांगे नहीं तो संत धार्मिक आंदोलन छेड़ेंगे।दरसल नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली कहाकि भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या नेपाल के बाल्मिकी आश्रम के पास है। इस पर अयोध्या के संतों ने पीएम ओली को चेताया कि हमारे धार्मिक स्थलों के बारे में टिप्पणी करना नेपाल को महंगा पड़ेगा अयोध्या के बारे में वेदों, शास्त्रोंं, ग्रंथों में लिखा है। संतों ने कहा कि चीन ने नेपाल की मानसिकता दूषित कर दी है।

दोनों देशों से तत्काल माफी मांगें पीएम ओली : कन्हैया दास

संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास में नेपाल के प्रधानमंत्री पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए दोनों देशों से तत्काल माफी मांगने की मांग की है। भारत-नेपाल संबंध युगों से है जिस का निर्वाहन आज भी अयोध्या और जनकपुर के बीच किया जाता है। प्रत्येक वर्ष भगवान राम का माता जानकी के विवाह उत्सव को लेकर अयोध्या से राम बरात नेपाल के जनकपुर पहुंचती है जहां उनका स्वागत बड़े ही धूमधाम से नेपाल के लोग करते हैं। भारत और नेपाल की संस्कृति एक है जिसके कारण पूरे विश्व में जाना जाता है। इसलिए इस तरह का टिप्पणी करने से भारत के साथ नेपाल का भी अपमान किया गया है जिसके लिए प्रधानमंत्री ओली को तत्काल माफी मांगनी चाहिए नहीं तो भारत ही नहीं नेपाल की भी जनता उनको माफ नहीं करेगी और अयोध्या कि संत समाज ओली के खिलाफ आंदोलन छेड़ने को तैयार होंगे।

नेपाल पीएम को न ही शास्त्र न ही धर्म का ज्ञान : आचार्य सत्येंद्र दास

रामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास के मुताबिक नेपाल के प्रधानमंत्री को न ही शास्त्र का ज्ञान है और ना ही धर्म का ज्ञान है। अरे धर्म की नगरी के बारे में इस तरह का बयान कहना अज्ञानता माना जाता है एक देश के प्रधानमंत्री होने के नाते इन्हें तत्काल हिंदू समाज से माफी मांगनी चाहिए भारत व नेपाल का संबंध हजारों वर्षों पुराना है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती लेकिन आज इस तरह से बयानबाजी करना नेपाल के लिए अशोभनीय है नेपाल के प्रधानमंत्री का बयान बाजी चीन की साजिश है जिसका करारा जवाब अयोध्या के संत देंगे।

पाकिस्तान के इशारे पर चल रह है : महंत परमहंसदास

महंत परमहंसदास ने कहा कि नेपाल चीन और पाकिस्तान के इशारे पर इस तरह से बयानबाजी किया जा रहा है। इससे भारत ही नही बल्कि नेपाल में रहने वाले लोग भी आहत हूए है। वहीं कहा कि नेपाल के प्रधानमंत्री ओली पहले माओवादियों और आतंकवादियों से संबंध रहा है। आज भी वह पाकिस्तान के इशारे पर चल रहा है।

नेपाल हिंदू राष्ट्र रहा है इस तरह का बयान दुर्भाग्यपूर्ण : राजू दास

हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास ने कहा कि नेपाल हिंदू राष्ट्र रहा है लेकिन इस तरह का बयान देना दुर्भाग्यपूर्ण है। और जब से नेपाल चाइना के संपर्क में आया है उसके बाद से वहां के प्रधानमंत्री का बुद्धि भ्रष्ट हो गया है। जिसका अयोध्या के संत विरोध करते हैं और चेतावनी देते हैं कि जल्द से जल्द नेपाल के प्रधानमंत्री उड़ी राम भक्तों से माफी मांगे। नहीं तो अयोध्या के संत आक्रोशित होंगे नेपाल के प्रधानमंत्री को अब तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि नेपाल पूरी तरह गर्द में जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News