अयोध्या : गांव सील, 5 सेक्टरों में बाटा गया गांव , लगाई गई निगरानी टीमें

कुमारगंज(अयोध्या) ! जिले में कोरोना संक्रमित तीन लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिलने के बाद मिल्कीपुर क्षेत्र में हड़कंप मच गया है। कोरोना मरीज मिलने के बाद पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मिल्कीपुर ब्लॉक क्षेत्र के नरेंद्रा भादा गांव पहुंचे और समूचे गांव को पूरी तरह से सील करते हुए गांव के बाहर से जाने वाले राशि पर बैरिकेडिंग कर दी गई है। कोरोना पॉजिटिव संक्रमित मरीज मिले गांव के चारों तरफ 1 किलोमीटर तक लोगों के आने जाने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मिल्कीपुर ब्लाक क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत नरेंद्रा भादा निवासी 51 वर्षीय देव नारायण तिवारी महाराष्ट्र प्रांत के मुंबई में रोजी रोजगार के चक्कर में रहते थे। कोरोना वायरस महामारी को लेकर चल रहे लॉक डाउन के बीच बीते 12 मई को अपने पैतृक गांव चले आए थे। उनके गांव पहुंचने पर ग्राम प्रधान सहित ग्रामीणों ने उनके संक्रमित होने का अंदेशा व्यक्त करते हुए प्रशासनिक अधिकारियों को जानकारी दी थी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम एवं पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। उन्होंने अधेड़ देव नारायण तिवारी को एंबुलेंस ले जाकर दर्शन नगर स्थित संयुक्त चिकित्सालय में क्वारंटीन कर दिया था। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने अधेड़ देवनारायण के कोरोनावायरस संक्रमण परीक्षण हेतु नमूना लखनऊ मेडिकल कॉलेज भेज दिया था मेडिकल कालेज से रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जहां एक और प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया है। वहीं दूसरी ओर गांव सहित आसपास के गांव के ग्रामीणों में डर व भय का वातावरण पैदा हो गया है। कोरोना वायरस संक्रमित मरीज के मिलने की जानकारी मिलते ही मुख्य विकास अधिकारी प्रथमेश कुमार उप जिला अधिकारी अशोक कुमार शर्मा, क्षेत्राधिकारी मिल्कीपुर जयप्रकाश सिंह, खंड विकास अधिकारी मिल्कीपुर अमित सिंह ,थानाध्यक्ष अजय कुमार सिंह पुलिस फोर्स एवं स्वास्थ्य कर्मियों की टीम के साथ गांव पहुंच गए।नरेंद्रा भादा गांव को जाने वाले सभी मार्गों को बांस बल्ली गाल कर बैरिकेडिंग कर दी गई है। सभी बैरियर के पास पुलिस के ससस्त्र कर्मियों का कड़ा पहरा लगा दिया गया है। शनिवार को गांव पहुंचे एसडीएम अशोक कुमार शर्मा ने समूचे गांव को 5 सेक्टरों में बांट दिया और तहसील के 5 लेखपालों विंध्या प्रसाद तिवारी, दिनेश कुमार पांडे, रवि प्रकाश यादव,बाबू चंद्र मिश्रा एवं महेंद्र तिवारी के नेतृत्व में प्रत्येक सेक्टर में 2 सफाईकर्मी एक एएनएम एवं एक आशा बहू की 5 टीमें लगा दी गई है। इसके अलावा एक लेखपाल सुमित कुमार ठाकुर के नेतृत्व में गठित एक टीम रिजर्व में तैनात की गई है। पांचों लेखपालों के नेतृत्व में गठित टीमों ने गांव में पाए गए कोरोना वायरस संक्रमित मरीज के संपर्क में आए हुए लोगों का विवरण सूचीबद्ध किया और गांव में कोरोना के लक्षण पाए जाने वाले व्यक्तियों पर निगरानी शुरू कर दी है।मिल्कीपुर ब्लाक क्षेत्र के नरेंद्र भादा निवासी 51 वर्षीय देवनारायण तिवारी के मुंबई से वापस लौटने के बाद उनके कोरोनावायरस संक्रमित पाए जाने के बाद गांव में चौकशी तेज कर दी गई है तथा उनकी पत्नी मिथिलेश तिवारी तथा 19 वर्षीय बेटे अंकुर को भी क्वारंटीन किए जाने हेतु मसौधा ले जाया गया है। इसके साथ ही कोरोना पॉजिटिव मरीज देवनारायण के साथ अपने घर वापस लौटे उनके तीन रिश्तेदारों सूरज पुत्र जगन्नाथ दुबे उम्र करीब 23 वर्ष, पिंकी पत्नी सूरज दुबे उम्र करीब 21वर्ष, एवं इनके 1 वर्षीय बेटे को पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बीते शनिवार की देर रात गांव के ही प्राथमिक विद्यालय पर क्वारंटीन कर दिया है। कोरोना पाजिटिव देवनारायण तिवारी सूरज की पत्नी पिंकी के फूफा है तथा उनके साथ मुम्बई से उनकी फोरव्हीलर गाडी से ही घर आए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News