हरदोई : साथियों संग मिलकर कर दी पिता की हत्या, पुलिस ने किया गिरफ्तार

विपिन मिश्रा ब्यूरो रिपोर्ट

कर्ज उतारने के लिए पिता द्वारा जमीन बेंचने से मना कर देने व थोड़े लालच के लिए प्लान करके पिता को उतार दिया मौत के घाट

हरदोई ! जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक पुत्र ने अपने साथियों के साथ मिलकर अपने पिता की हत्या कर दी। पिता द्वारा लिए गए कर्ज को देने से बचने व उससे निजात पाने के लिए एक पुरानी रंजिश को मोहरा बनाकर पुत्र ने इस हत्याकांड को एक प्री-प्लान के तहत अंजाम दे दिया। पुलिस ने उपरोक्त सहित 3 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।
बीते 9 अगस्त को थाना कछौना क्षेत्रांतर्गत सिंह ढ़ाबा के निकट एक व्यक्ति का शव पाया गया था। जिसकी पहचान राजपाल सिंह पुत्र शिवराम सिंह निवासी मो. सुम्बाबाग, एकलव्य नगर, संडीला के रूप में हुई थी। इस मामले को लेकर मृतक की पत्नी माया देवी ने अपने पड़ोसी बलराम सिंह पुत्र सूर्यवख्श, सतेन्द्र सिंह पुत्र सरनाम सिंह, उत्तम सिंह पुत्र बलराम सिंह व कल्लू गुप्ता पुत्र मुन्नू गुप्ता के विरूद्ध तहरीर दी थी और बताया था कि उपरोक्त चारों ने उसके पति की हत्या कर दी। पूरे मामले को लेकर 10 अगस्त को थाना कछौना में संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई थी। इसी बीच 18 अगस्त को शाम करीब 6 बजे लखनऊ-हरदोई मार्ग पर स्थित गांव हरदासपुर मोड़ से तीन अभियुक्तों विशेन्द्र प्रताप उर्फ गोपाल सिंह पुत्र राजपाल सिंह, धर्मेंद्र सिंह पुत्र सतीश सिंह और अनुज सिंह उर्फ पम्मू पुत्र सुखपाल सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इनमें से अभियुक्त विशेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ गोपाल सिंह मृतक का पुत्र है।

क्या है मृतक के पुत्र(आरोपित) का कहना…

विश्वेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ गोपाल सिंह ने बताया कि ग्राम भगवन्तपुर के विमलेश सिंह पुत्र स्वर सूर्यबक्श सिंह की हत्या वर्ष 2006 में हुई थी। जिसमें उसके पिता मृतक राजपाल सिंह व उनके परिवार के छोटे मुन्ना, अजय प्रताप व राजवर्धन सिंह पुलिस द्वारा जेल भेजे गये थे तथा उक्त अभियोग में सभी मुल्जिमान दिनांक 18.02.2011 को न्यायालय द्वारा दोष मुक्त किये गये थे। उसके ऊपर आठ-नौ लाख रुपये का कर्ज था। उसके गांव का कोटा भी निरस्त हो गया था। जिससे वह काफी परेशान था । कर्ज का भुगतान करने के लिए उसके पिता ने जमीन बेचने से इंकार कर दिया तथा मृतक की मृत्यु से अभियुक्त ने किसान बीमा से मिलने वाले पांच लाख रुपये व पिता की हत्या की आड में लिये गये कर्जों से निजात पाने तथा मृतक की जमीन अपने नाम करा लेने की नियत से तथा पुरानी रंजिश के सहारे स्वंय को बचा लेने का आड लेकर अपने साथियों धर्मेन्द्र सिंह व अनुज सिंह
उर्फ पम्मू के साथ मिलकर दिनांक 09.08.2020 को तहसील कम्पाउण्ड सण्डीला से राजपाल सिंह को दावत के बहाने ग्राम दलेलनगर ले जाने की बात कहकर उन्हें फक्ट्री एरिया फेस-2 सिंह ढाबा के निकट सूनसान स्थान पर लाकर शराब पिलाई और फिर तीनों ने रस्सी से गला घोटकर व चाकूओं से गोदकर व गला काटकर राजपाल सिंह की हत्या कर दी।

पिता की हत्या के आरोप में विपक्षियों के लिखवाए नाम…

अपने पिता की हत्या करने के बाद गोपाल ने अपने विपक्षियों के नाम अभियोग पंजीकृत करा दिया था। ताकि पुलिस को शक भी न हो और वह एक तीर से दो निशाने भी लगा सके लेकिन पुलिस की सक्रियता और निष्पक्षता के चलते उसका यह कारनामा सफल न हो सका। अभियुक्तों की निशानदेही पर हत्या में प्रयोग किया गया आलाकत्ल चाकू व घटना के समय मुल्जिमान द्वारा रक्त के धब्बे लगे कपडे, मृतक को लाने में प्रयोग की गयीं दो मोटर साइकिलों को बरामद किया गया।

एसपी ने पुलिस टीम को किया पुरस्कृत..

इस मामले का खुलासा कर आरोपितों को पकड़ने व निर्दोषों को बचाने के इस सराहनीय कार्य के लिए पुलिस अधीक्षक द्वारा घटना का सफल अनावरण करने वाली पुलिस ठीम को नगद पुरस्कार दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News