कानपुर के बिकरू गांव में सीओ सहित आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले पांच लाख का इनामी विकास दुबे एनकाउंटर में ढेर हो गया है। कानपुर ला रही एसटीएफ गाड़ी ला रही थी। गाड़ी पलट गई। उसने हथियार छीकर भागने की कोशिश की। जिसके बाद पुलिस ने उसे मुठभेड़ में मार गिराया है। कल ही विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया था। वारदात के बाद से फरार विकास यूपी, दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस को चकमा देकर दर्शन करने मंदिर पहुंचा था। गिरफ्तारी के बाद विकास से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में दो घंटे से ज्यादा पूछताछ की गई। इसके बाद उसे मध्यप्रदेश पुलिस ने यूपी एसटीएफ को सौंप दिया।

विकास ने कर दी फायरिंग

एसएसपी ने बताया कि गैंगस्‍टर विकास दुबे को ला रही गाड़ी पलट गई थी। वह किसी तरह बाहर निकला और घायल सिपाहियों की पिस्‍टल छीनकर भागने लगा।एसटीएफ के जवानों ने तब मोर्चा संभाल लिया। वहीं, वेस्‍ट कानपुर के एसपी ने बताया कि विकास दुबे को सरेंडर करने को कहा गया था, लेकिन उसने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में वह मारा गया। दूसरी तरफ, एसएसपी ने 4 सिपाहियों के घायल होने की भी बात कही है।पता चला है कि गाड़ी पलटने के बाद घायल एसटीएफ के पुलिसकर्मियों की पिस्टल छीन कर विकास दुबे ने भागने की कोशिश की। इस दौरान साथ में वाहन चल रहे थे, उसमें पुलिस टीम ने विकास दुबे पर जवाबी फायरिंग की।सूत्रों के अनुसार विकास दुबे गंभीर रूप से घायल हुआ है. उसे अस्पताल ले जाया गया है. पुलिस सूत्रों के अनुसार खराब मौसम के कारण गाड़ी पलटी और उसके बाद ये घटना हुई। पता चला है कि गाड़ी में विकास बीच में बैठा था, उसके अगल-बगल में कमांडो बैठे थे। खबर आ रही है कि गोली लगने से बुरी तरह घायल विकास दुबे की मौत हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News