Kkc न्यूज !…..इक शख्स सारे शहर को वीरान कर गया(लेखक-प्रहलाद तिवारी)

अयोध्या : विहिप से जुड़कर राम मंदिर आंदोलन से निकल कर पत्रकारिता में कदम रखने वाले लोकेश प्रताप सिंह का अल्पायु में गोलोक गमन करना हर किसी को रुला गया। दैनिक जागरण में उनका सफर कानपुर, बरेली, पीलीभीत व बदायूं तक पहुंचा। सोहावल तहसील के राम नगर धौरहरा निवासी लोकेश प्रताप सिंह (वरिष्ठ उप मुख्य संपादक,दैनिक जागरण ) को केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका संजय गांधी ने राष्ट्रीय जनसहयोग एवं बाल विकास संस्थान (निपसिड) का वाइस चेयरमैन नियुक्त किया था। वह 1990 से ही राम मंदिर आंदोलन से जुड़ गये तथा विश्व हिंदू परिषद की मीडिया का दायित्व देखने लगे l इस दौरान मंदिर आंदोलन में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काम करने के साथ ही उन्हें विश्व संवाद केन्द्र दिल्ली का निदेशक बना दिया गया l इसी दौरान मंदिर आंदोलन के शलाका पुरुष महंत राम चंद्र दास परमहंस जी, अशोक सिंघल जी, गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवैद्य नाथ व उनके शिष्य तथा वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ, भाजपा व संघ के बड़े नेताओं के संपर्क में आ गये l केंद्र की अटल जी की सरकार के दौरान लोकेश को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में राजभाषा समिति का सलाहकार नियुक्त किया गया l इसके पश्चात दैनिक जागरण में उप संपादक के रूप में जन सरोकारों पर उल्लेखनीय कार्य भी लगातार करते रहे l गंगा, गोमती सहित विभिन्न नदियों के पुनरुद्धार पर कार्य करने के लिए उन्हें आधुनिक भागीरथ के रूप में विभिन्न पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था। 12 नवम्बर 2016 को उनके मार्ग दर्शन में आयोजित श्रीमद भागवत कथा का उद्घाटन योगी आदित्य नाथ ने किया था l इसमें विहिप के अंतर्राष्ट्रीय महामन्त्री चम्पतराय जी समेत संगठन के कई बड़े लोगों ने हिस्सा लिया था। इस दौरान योगी जी उनके घर पर लगभग तीन घंटे रहे थे। उनका जीवन संघर्षों से भरा रहा है, विवादों ने पीछा नहीं छोड़ा फिर भी उनके चेहरे पर लगातार मुस्कान ही नजर आती रही। नवोदित पत्रकारों को वह बड़े स्नेह से पत्रकारिता के गुर सिखाया करते थे। दो वर्ष तक कैंसर जैसी विकराल बीमारी से भी वह लड़ते रहे। उनके जज्बा, काम के प्रति समर्पण, हर किसी के साथ घुल मिल जाना ही उनकी सबसे बड़ी पूंजी रही। पत्रकारिता में अमिट छाप छोड़कर वह अनन्त यात्रा पर भले निकल गए हैं लेकिन नदियों व वन्य जीवों पर लिखी गयी उनकी स्टोरी युगों युगों तक उनको जीवित रखेगी। दैनिक जागरण के कई एडिशनों में काम कर चुके और सरोकारों की पत्रकारिता के पक्षधर लोकेश ने पीलीभीत के गोमती उद्गम-स्थल के पुनरुद्धार पर काफी संघर्ष किया। पानी सा निश्छल और नदी जैसे निरंतर बहाव के व्यक्तित्व वाले लोकेश का सामना कैंसर जैसे जानलेवा रोग से हो गया था।
उनका जाना गोमती नदी के आंदोलन को अपूर्णीय छति पहुँचाएगा। *खालिद* के इस शेर के साथ लोकेश जी को विनम्र श्रद्धाजंलि

*बिछड़ा कुछ इस अदा से कि रुत ही बदल गई*
*इक शख़्स सारे शहर को वीरान कर गया*।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News