प्रियंका चतुर्वेदी ने छोड़ा कांग्रेस का साथ, शिवसेना में शामिल होंगी

  • प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस के सभी पदों के साथ पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया
  • शिवसेना सांसद संजय राउत ने उनके शिवसेना में शामिल होने की पुष्टि कर दी है
  • कांग्रेस प्रवक्ता के तौर पर प्रियंका अक्सर सोशल मीडिया और टीवी पर मुखरता से पक्ष रखती थीं
  • सूत्रों का कहना है कि टिकट नहीं मिलने के कारण प्रियंका पार्टी से नाराज चल रही थीं

नई दिल्ली
कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी की पार्टी से नाराजगी की खबरों के बीच अब उनके पार्टी छोड़ दी है। मथुरा में हुई घटना के विरोध में प्रियंका ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लिखे पत्र में उन्होंने पार्टी में मिली जिम्मेदारियों के लिए शुक्रिया अदा करने के साथ यह भी लिखा कि पिछले कुछ वक्त से उनके काम की पार्टी को कद्र नहीं रही। शिवसेना सांसद संजय राउत ने उनके शिवसेना में शामिल होने की पुष्टि की है।शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने आज शाम ही प्रेस कॉन्फ्रेंस भी बुलाई है। ट्विटर पर भी उन्होंने मथुरा घटना को लेकर खुलकर अपनी नाखुशी जाहिर की थी। प्रियंका ने अपने ट्विटर हैंडल से भी बायो इंट्रो में से कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पद को परिचय से हटा लिया है।

पत्र लिखकर पार्टी छोड़ी, कहा-‘अब पार्टी में मेरे काम की कद्र नहीं’

कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में उन्होंने लिखा कि पार्टी की विचारधारा और राहुल गांधी के सबको साथ लेकर चलने कि विचार ने उन्हें प्रभावित किया था और इसलिए 10 साल पहले वह पार्टी में शामिल हुईं। प्रियंका ने लिखा, ‘मैं बहुत भरे दिल के साथ आज पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और सभी पदों से इस्तीफा दे रही हूं। पिछले 10 सालों में पार्टी की तरफ से मुझे कई जिम्मेदारी मिली और निजी स्तर पर मैंने बहुत कुछ सीखा। हालांकि, कुछ समय से ऐसा लग रहा था कि पार्टी में मेरे काम की अब कोई कद्र नहीं रही है। मुझे ऐसा लगने लगा कि संगठन के लिए मैं जितना वक्त और बिताऊंगी वह मेरे सम्मान और गरिमा से समझौता होगा।’

महिलाओं के सम्मान की बात कही जाती, लेकिन उसके लिए किया कुछ नहीं जाता
प्रियंका ने पार्टी में महिलाओं के सम्मान की बात को लेकर काम नहीं किए जाने का हवाला देते हुए कहा, ‘पार्टी महिला सशक्तीकरण और महिलाओं के अधिकार की वकालत करती है, लेकिन यह यह देखना दुखद है कि पार्टी ने उस विचारधारा पर काम नहीं किया। मथुरा में पार्टी के कार्यक्रम में हुए दुर्व्यवहार के बाद भी मेरे सम्मान के लिए पर्याप्त कार्रवाई नहीं की गई। यह मेरे लिए आखिरी घंटी थी कि अब वक्त आ गया है कि मुझे कांग्रेस से बाहर निकलकर दूसरे क्षेत्रों पर अपना फोकस बढ़ाना चाहिए।’ प्रियंका ने इस्तीफे के पत्र में कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिले समर्थन और प्यार के लिए आभार भी जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News