यूपी:फ़ेसबुक पर युवक से दोस्ती,प्रेमी से मिलने से पहुँची युवती ने रची घिनौनी साजिस


प्रेमी से मिलने के लिए मासूम बच्ची का फुफेरी बहन ने अपहरण किया था। शुक्रवार सुबह 11 बजे पुलिस टीम पंजाब के जालंधर से बच्ची को बरामद कर जिले में पहुंची। पुलिस ने बच्ची की फुफेरी बहन और उसके प्रेमी को भी गिरफ्तार किया है। आरोपी शनिवार को कोर्ट में पेश किए जाएंगे।
आरोपी बहन से पुलिस ने नगदी और जेवरात भी बरामद किए हैं। पुलिस अपहरण के साथ चोरीकी धाराएं भी मुकदमे में बढ़ाएगी। शांतिनगर शिवनगर मोहल्ला निवासी शिक्षिका अर्चना तिवारी उर्फ नीतू की बेटी मान्या (3) और भतीजी नीशू द्विवेदी (19) मंगलवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे से लापता हो गई थी।
मामले में नीशू के हाथ का लिखा एक पत्र भी घर से मिला था।
जिसमें 24 घंटे बाद इंतजार न करने की बात लिखी थी। पुलिस ने अर्चना की तहरीर पर मंगलवार रात नीशू द्विवेदी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। नीशू बांदा जिला कोतवाली क्षेत्र के कैलाशपुरी के अविनाश की बेटी है।

मामले की जांच में सर्विलांस प्रभारी सुनील यादव और कोतवाली के एसआई उमाशंकर सिंह की संयुक्त टीम लगी थी। कानपुर, दिल्ली, हरियाणा के बाद टीम पंजाब पहुंची। पंजाब के जालंधर शहर में एक गुरुद्वारे के पास से गुरुवार शाम टीम ने बच्ची को बरामद कर लिया था।

कोतवाली में नीशू ने कबूला कि उसकी 23 दिसंबर 2020 को जालंधर के नवदीप सिंह उर्फ गिन्नी से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी। उसके बाद प्रेम प्रसंग हो गया। उसका 2 फरवरी को गिन्नी से मिलने का मन हुआ। उसने जालंधर जाने की योजना बनाई।

मान्या घर में अकेली थी। उसके लिए रास्ते में मान्या ढाल का काम करती। पुलिस और लोगों की निगाह में ऐसा लगता कि उसकी बेटी है। इस वजह से मान्या को वह साथ लेकर गई थी। दो फरवरी को बस अड्डे से कानपुर के लिए जनरथ पकड़ी। उसके बाद दिल्ली पहुंची।

दिल्ली से पंजाब के लुधियाना पहुंची। जहां से जालंधर 3 फरवरी को पहुंची। एक रिश्तेदार का फोन आया तो उसने सिमकार्ड तोड़कर फेंक दिया। पूरी रात उसने जालंधर बस अड्डे में गुजारी। उसके बाद एक दूसरे व्यक्ति के फोन से गिन्नी के नंबर पर फोन किया।

गिन्नी ने उसे गुरुद्वारा बुलाया। जहां पहले से वह पुलिस के साथ मौजूद था। वह मान्या कोई नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती थी। गिन्नी से मिलने के बाद सीधे घर बांदा पहुंचती। बाद में वह लोग एक दूसरे से शादी करते। गिन्नी ने बताया कि नीशू के साथ बच्ची के होने का पता नहीं था।

एसपी सतपाल आंतिल ने बताया कि सर्विलांस से पता लग चुका था नीशू किससे बात कर रही है। उसने जब सिमकार्ड तोड़ दिया तो कुछ मुश्किल लगा। हालांकि बाद में पुलिस गिन्नी तक पहुंच गई। टीम को 25 हजार का ईनाम दिया गया है।

परिवार की लौटी खुशी, सांसद व एसपी पहुंचे कोतवाली
बच्ची के मिलने से परिवार में खुशियों का माहौल हो गया। कोतवाली में केंद्रीय राज्यमंत्री व सांसद साध्वी निरंजन ज्योति, भाजपा जिलाध्यक्ष आशीष मिश्रा समेत भारी भीड़ कोतवाली पहुंची। सांसद ने पुलिस टीम को नगद ईनाम देकर सम्मानित किया। मां अर्चना बोली कि पुलिस की कार्यशैली के लिए उनके पास कोई शब्द नहीं है। उनके सामने आरोपी नीशू कोतवाली में माफी मांगती दिखी।

नीशू को मुन्ना बोलती है मासूम
करीब दो दिन तक मासूम बच्ची अपहृता के साथ घूमती रही। बच्ची के चेहरे पर कोई शिकन नहीं आई। दरअसल नीशू करीब चार माह से मान्या की देखभाल करती थी। इस वजह से दोनों अच्छी तरह से परिचित थे। नीशू ने भी कोई तकलीफ बच्ची को नहीं होने दी। बच्ची ने नीशू को देखकर तुतलाते बोला मुन्ना आओ। परिजनों ने बताया कि बच्ची हमेशा से नीशू को मुन्ना बोलती है। मां अर्चना ने बताया कि नीशू भले ही रिश्तेदार है लेकिन उसके लिए अब दिल में कोई जगह नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News