लॉकडाउन: घर जाने को दोस्त से मांगी मदद तो 10 साथियों संग किया गैंगरेप, रातभर जंगल में बेहोश पड़ी रही, सुबह रेंगती हुई सड़क पर पहुंची

घर जाने को दोस्त से मांगी मदद तो 10 साथियों संग किया गैंगरेप

रातभर जंगल में बेहोश पड़ी रही, सुबह रेंगती हुई सड़क पर पहुंची

झारखंड के दुमका में लॉकडाउन में एक शर्मनाक वारदात सामने आई है। यहां लॉकडाउन के बाद गांव लौट रही इंटर की 16 वर्षीय छात्रा से 10 युवकों ने गैंगरेप किया। यह घटना 24 मार्च को गोपीकांदर के गड़ियापानी जंगल में हुई। गैंगरेप का खुलासा तब हुआ, जब किशोरी ने गोपीकांदर थाना पुलिस को अपना बयान दिया। छात्रा ने बताया कि मदद के लिए बुलाए गए एक दोस्त और उसके दोस्त ने रेप किया, फिर आठ अन्य युवक पहुंचे और गैंगरेप को

अंजाम दिया। वह रातभर जंगल में बेहोश पड़ी रही।

किशोरी गोपीकांदर प्रखंड क्षेत्र की रहने वाली है। दुमका शहर के शिवपहाड़ में किराए के मकान में रहकर एसपी कॉलेज से इंटर कर रही है।

पुलिस को दिए बयान में किशोरी ने बताया कि कारूडीह पहुंचने से पहले उसने अपने परिजनों को फोन किया था। शाम होने के बाद भी परिजन नहीं पहुंचे तो अपने एक दोस्त विक्की उर्फ प्रसन्नजीत हांसदा को फोन किया। युवक गोपीकांदर प्रखंड के दड़ंगखरौनी का रहने वाला है। वह बाइक लेकर तुरंत कारूडीह मोड़ पहुंच गया। युवक एक दोस्त को भी लेकर पहुंचा था। तीनों एक बाइक से निकले। इस बीच विक्की ने घर जाने के रास्ते की बजाय दूसरे कच्चे रास्ते पर बाइक ले गया।

किशोरी ने जब विक्की से कहा कि यह घर जाने का रास्ता नहीं है तो उसने कहा कि रास्ते पर चेकिंग चल रही है, इसलिए कच्चे रास्ते से होकर घर जा रहे हैं। कुछ दूरी पर जाकर विक्की ने सुनसान जंगल के पास बाइक को रोक दिया और कहा कि उसे शौच लगी है। किशोरी उसके अज्ञात दोस्त के साथ काफी देर तक सुनसान जंगल में खड़ी रही। इसी बीच विक्की पहुंचा और अपने दोस्त के साथ मिलकर उसके साथ दुष्कर्म किया। दुष्कर्म करने के बाद आठ युवक नकाब पहने पहुंचे और जान से मार देने की धमकी देते हुए गले पर चाकू लगा दिया। इसके बाद सभी युवकों ने बारी-बारी से गैंगरेप किया।

वाईएस रमेश, एसपी, दुमका का कहना है कि छात्रा के साथ गैंगरेप की घटना हुई है। आरोपियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। रामगढ़ सामूहिक दुष्कर्म कांड की तर्ज पर इस मामले की भी जांच का निर्देश दिया गया है।

रातभर जंगल में बेहोश पड़ी रही किशोरी

सामूहिक दुष्कर्म के दौरान छात्रा बेहोश हो गई। दूसरे दिन 25 मार्च की सुबह वह जंगल से किसी तरह से रेंगते हुए सड़क पर आई तो ग्रामीणों ने देखकर परिजनों को सूचित किया। मौके पर मां, पिता एवं भाई आए और उसे उठाकर घर लेकर चले गए। भाई ने गोपीकांदर थाना की पुलिस को सूचित किया। गोपीकांदर थाना की पुलिस ने किशोरी को दुमका के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News