वीडियो:TMC नेता ने महिला टीचर को रस्सी में बांधकर घसीटा, फिर की बुरी तरह पिटाई

पश्चिम बंगाल से हाल ही में एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जिसे देखने के बाद आप भी एक मिनट के लिए शायद क्रोध में आ जाएं. लेकिन ये वीडियो वहीं से ही सामने आई है, जहां पर टीएमसी पार्टी की बड़ी लीडर और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दूसरे राज्यों की नाकामियों को गिनाने और हिंसा को दिखाने का काम करती हैं. इस वीडियो से साफ जाहिर होता है कि वहां पर सरकार की न सुनने के बाद उनके साथ किस तरह का दुर्व्यहार किया जाता है. शायद इस वीडियो को देखने के बाद जो सोए हुए नागरिक हैं, उनकी भी आंखे खुल जाएं जो बहुत जरूरी है.

दरअसल इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि किस तरह से एक महिला को रस्सी में बांधकर उसे बेरहमी तरीके से घसीटा जा रहा है, और ये सब कोआ और नहीं बल्कि टीएमसी पंचायत नेता अमल सरकार के द्वारा किया जा रहा है. महिला का गुनाह इतना है कि उसने पंचायत द्वारा बनाई जा रही सड़क के लिए अपनी जमीन को हथियाने विरोध किया था. इसके बाद उसे सड़क पर रस्सी से बांधकर घसीटा जाने लगा, इसके बाद जब उसकी बहन से इस बर्ताव का विरोध किया तो उसे भी जमीन पर जोर से धक्का दिया गया और उसके बाद उसके साथ भी वही बदसलूकी की गई, यहां तक कि महिला के साथ जमकर मारपीट के साथ गलीगलौच भी की गई.

हालांकि इस घटना के बाद रविवार के दिन टीएमसी के जिला प्रमुख अर्पिता घोष ने पंचायत नेता अमल सरकार को निलंबित करने का फरमान सुनाया. लेकिन इस मामले के आरोपियों में से अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है. ये पूरी घटना दक्षिण दीनाजपुर जिले के फाटा नगर गांव की है. जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. जिसमें साफ देखा जा सकता है कि मैक्सी पहने स्मृतिकोना दास को कैसे जमीन पर पुरूष घसीट रहे हैं, जबकि उसकी बहन जब सोमा दास वहां उसका विरोध करने गई तो भीड़ ने उसके साथ भी वहीं बदसलूकी की गई.

जानकारी में ये सामने आया है कि जिन महिलाओं के साथ ये बदसलूकी की गई उन्हें पंचायत की तरफ से जानकारी दी गई थी कि उनके घर के सामने 12 फीट चौड़ी सड़क बनाई जाएगी. जिसके लिए वो अपनी जमीन उन्हें देने के लिए तैयार थीं. लेकिन इसके बाद फिर इस फैसले में बदलाव हुआ और ये बताया गया कि सड़क 12 फीट नहीं बल्कि अब 24 फीट चौड़ी बनाई जाएगी. जिसमें उनकी जमीन ज्यादा कट रही थी और इसी मसले का उन्होंने उस दौरान विरोध किया था. लेकिन बावजूद इसके कि सड़क बनानी शुरू की गई, इसके बाद फिर से महिलाओं ने इसका विरोध किया, और फिर भीड़ ने मिलकर उनके साथ बदतमीजी की.

हालांकि मारपीट के बाद दोनों बहनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिनमें से एक को डिस्चार्ज कर दिया गया था, जबकि स्मृतिकोना दास को उपचार के बाद शनिवार को डिस्चार्ज किया गया था. हालांकि ये घटना अब सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रही है, और लगातार इस वीडियो पर लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. दोनों महिलाओं को अस्पताल ले जाया गया. बड़ी बहन सोमा दास जिसने अपनी बहन पर हुए हमले का विरोध किया था, उसे प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया.

स्मृतिकोना दास को इलाज के बाद शनिवार को डिस्चार्ज किया गया. हालांकि स्मृतिकोना ने इस घटना की शिकायत रविवार को पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई है. इस शिकायत में उन्होंने ग्राम पंचायत उपाध्यक्ष अमल सरकार का भी नाम दर्ज करवाया है, जिसने इस हमले को करवाने का आदेश दिया था. बताया जा रहा है कि स्मृतिकोना गांव के पास एक हाईस्कूल में बच्चों को पढ़ाती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News