अखिलेश के ड्रीम प्रोजेक्ट लायन सफारी पर मेहरबान हुए योगी आदित्यनाथ

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट लायन सफारी को योगी सरकार आम जनता तथा पर्यटकों के लिए जल्द खोलने की तैयारी में जुटी है। इस लायन सफारी में शेरों का कुनबा बढ़ाने के लिए गुजरात के जूनागढ़ से 07 शेरों को लाया गया है। जूनागढ़ से इटावा तक शेर 17 घंटे का सफर तय करके आये हैं। इन शेरों के आने के बाद सफारी में उनकी संख्या 15 हो गयी है।

शेरों की कमी थी सफारी खोलने में बाधक

लायन सफारी के डायरेक्टर डॉ. वीके सिंह ने गुरुवार को बताया कि इटावा लायन सफारी में अब तक शेरों की संख्या 8 थी जो नेशनल जू अथॉरिटी के अनुसार पर्याप्त नहीं थी। इसी कारण लायन सफारी को खोलने में परेशानी आ रही थी। शेरों की संख्या पूरी करने के लिए गुजरात के जूनागढ़ से सात शेरों को लाया गया है।

बुधवार देर रात शेर इटावा सफारी पहुंचे हैं। सफारी में शेरों की संख्या अब 15 हो गयी है जो नेशनल जू अथॉरिटी के मानक अनुसार पर्याप्त है, इसलिए अब लायन सफारी के जल्द ही खुलने के लिए हरी झंडी मिल सकती है।

तो इसलिए मर गए थे पांच शेर

उल्लेखनीय है कि इससे पहले पूर्ववर्ती अखिलेश यादव सरकार को तब शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था, जब 2013 से 2015 के बीच गुजरात से लाए गए 10 शेरों में से पांच शेर 2014 से लेकर 2016 के बीच मर गए थे। शेर केनाइन डिस्टेंपर वायरस के संपर्क में आ गए थे, जो घरेलू और वन्य जीवों के श्वसन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है।

गुजरात से आए हैं शेर

इस बार जूनागढ़ से शेर गुजरात की विजय रूपाणी सरकार की ओर से उपहार है। गुजरात सरकार ने शेर उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दिए। तबसे सफारी को अमेरिका स्थित सैन डियागो चिड़ियाघर से लाई गई दवाई से स्वच्छ किया जा रहा है। सूत्रों ने कहा कि शेरों को पहले इटावा 22 मई को लाया जाने वाला था, लेकिन तेज गर्मी के कारण वन विभाग को अपना कार्यक्रम आगे बढ़ाना पड़ा। जो गुरुवार को इटावा के लायन सफारी में नए शेरों से गुलजार हो गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News