विमान में बचा था सिर्फ 10 मिनट का तेल, लखनऊ में आपात लैंडिंग, बाल-बाल बचे 153 यात्री

मुंबई से दिल्‍ली रहे विस्‍तारा एयरलाइंस के एक विमान को जिसमें 153 लोग सवार थे, बड़ी ही विचित्र स्थिति से गुजराना पड़ा जब उसे लखनऊ के लिए डाइवर्ट कर दिया गया और उसे बहुत ही कम ईंधन के साथ लैंड करना पड़ा। बता दें कि मुंबई से 153 यात्रियों को लेकर विस्‍तारा एयरलाइंस का विमान दिल्ली जा रहा था। मालूम चला कि उनके पास मात्र अगले 10 मिनट के लिए ही ईंधन बचा है।

आनन फानन में उन्हें लखनऊ में विमान की आपातकालीन लैडिंग करानी पड़ी। दिल्ली जा रहे विमान को पहले लखनऊ डायवर्ट किया गया, फिर इसे प्रयागराज भेजा गया लेकिन वहां पहुंचने से पहले ही फ्लाइट को फिर लखनऊ वापस आना पड़ा। लो विजिबिलिटी की वजह से लैंडिंग में दिक्कत आ रही थी और आखिरकार जब पायलटों ने इमर्जेंसी मेसेज भेजकर विमान को लखनऊ एयरपोर्ट पर उतारा तो फ्यूल टैंक तकरीबन खाली था।

अच्छे मौसम और लखनऊ एयर ट्रैफिक कंट्रोलर (वायु यातायात नियंत्रक) की मुस्तैदी की वजह से एयरक्राफ्ट किसी हादसे का शिकार होने से बच गया। लखनऊ से प्रयागराज के बमरौली एयरपोर्ट की तकरीबन 200 किमी दूरी तय करने के लिए विमान में पर्याप्त ईंधन नहीं था। फाइट रेडार 24 के डेटा के मुताबिक प्रयागराज के रास्ते में 7 मिनट का सफर पूरा करने के बाद एयरक्राफ्ट को लखनऊ वापस आना पड़ा, जहां 20 मिनट के अंदर इसकी लैंडिंग हुई।

5 मिनट का बचा था फ्लाइंग टाइम
पायलट तभी विमान को लखनऊ वापस ला सके, जब एटीसी ने उन्हें बताया कि लखनऊ का मौसम साफ हो चुका है। एक सूत्र ने बताया, ‘जब विमान लखनऊ मैं लैंड हुआ तो इसके फ्यूल टैंक में 200 किलोग्राम या 5 मिनट का फ्लाइंग टाइम बचा था।’

सूत्र ने बताया कि ए-320 नियो एयरक्राफ्ट की ऑपरेटिंग फ्लाइट UK944 मुंबई से दोपहर 2.40 बजे 8,500 किलो ईंधन के साथ रवाना हुई थी। मुंबई और दिल्ली के बीच का फ्लाइंग टाइम दो घंटे से कम का है। मामले की जांच कर रहे डीजीसीए ने के दोनों पायलटों के विमान उड़ाने पर रोक लगा दी है।

75 मिनट दिल्ली में चक्कर काटता रहा विमान
एक सूत्र का कहना है, ‘ऐसा प्रतीत होता है कि एयरलाइन ने दिल्ली के खराब मौसम को देखते हुए विमान में अतिरिक्त ईंधन दे रखा था।’ दिल्ली में तेज हवाओं और लो विजिबिलिटी की वजह से विमान करीब 75 मिनट तक चक्कर काटता रहा। इसके बाद पायलटों ने फ्लाइट प्लान में वैकल्पिक डेस्टिनेशन के रूप में लखनऊ का नाम देखते हुए विमान डायवर्ट किया। किसी शेड्यूल्ड डेस्टिनेशन पर लैंडिंग न होने की सूरत में जिस एयरपोर्ट पर विमान को लैंड कराना होता है, उसे वैकल्पिक डेस्टिनेशन कहा जाता है।

दिल्ली में रात 1.35 बजे हुई लैंडिंग
एयरलाइन का कहना है कि लखनऊ पहुंचने से पहले विजिबिलिटी में अप्रत्याशित गिरावट ही लो फ्यूल की मुख्य वजह थी। नियमों के मुताबिक विमान में जरूरी फ्लाइट प्लान फ्यूल से ज्यादा ईंधन था। फ्लाइट के दौरान यात्रियों और क्रू की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखा गया। विस्तारा एयरलाइंस की पीआरओ रश्मि सोनी का कहना है, ‘अमौसी एयरपोर्ट पर दोबारा ईंधन भरे जाने के बाद दिल्ली में देर रात करीब 1.35 बजे फ्लाइट आखिरकार सुरक्षित लैंड हुई।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News