अयोध्या : गोवंश से भरा ट्रक अनियंत्रित होकर कंटेनर ट्रक से भिड़ा,16 गोवंश बरामद एक कि मौत

गोवंश से भरे ट्रक का ड्राइवर व क्लीनर मौके से हुआ फरार।पटरंगा थाना क्षेत्र के गनौली के पास हुआ ये हादसा,पुलिस मौके पर।

पटरंगा(अयोध्या) ! राष्ट्रीय राजमार्ग पर मंगलवार की सुबह खड़े कंटेनर के पीछे ट्रक घुस गई।हादसे के बाद आगे खड़ी कंटेनर ट्रक मौके से फरार हो गया।वही दूसरा दुर्घटनाग्रस्त ट्रक डिवाइडर से टकराकर हाइवे के किनारे पटरी पर उतर गया।जिस पर 16 लावारिस गोवंश पशु भी बरामद हुए है।दुर्घटना के बाद गोवंश लदे ट्रक का ड्राइवर व क्लीनर गाड़ी छोड़कर मौके से फरार हो गया।सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने गोवंश से भरे ट्रक को मौके से हटवाकर जैसुखपुर गौशाला केंद्र ले गए और गोवंश पशुओं को गौशाला में रखवाया।ये घटना मंगलवार की सुबह पटरंगा थाना क्षेत्र के गनौली डिवाइडर कट की है।मौके पर हाइवे पुलिस चौकी प्रभारी दीपेंद्र विक्रम सिंह पटरंगा थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह मय सीओ धर्मेन्द्र यादव के पास मौके पर मौजूद रहे।

पुलिस के मुताबिक गोवंश मवेशियों से भरा ट्रक गाड़ी यूपी 21 एन 5722 जो उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद की है।सूत्रों की माने तो ये गाड़ियां अक्सर ट्रकों पर गोवंश पशुओं को भूंसे की भांति भरकर आये दिन गोवध के लिए यूपी की सीमा को क्रॉस कर बिहार के रास्ते पश्चिम बंगाल जाते है।और वहां इन वेजुबानों का वेरहमी से वध होता है।

सोचने वाली बात ये है कि गोवंश के तस्करों के हौंसले इतना बुलंद है कि इस समय भी ट्रकों कंटेनरों में गोवंश पशुओं को भूंसे की भांति भरकर राजमार्गो पर भर्राटा भरते हुए वेरोक टोक निकल जाते है।मंगलवार को ऐसे ही एक ट्रक को पटरंगा पुलिस ने उस समय बरामद किया है।जब वो एक दूसरे कंटेनर से टकराने के बाद वहां खड़ी हो गई।हालांकि इस पर तैनात ड्राइवर अंतिम समय तक ट्रक स्टार्ट कर गाड़ी समेत भागने की फिराक में था लेकिन उससे पहले ही पटरंगा थानाध्यक्ष पूरे दल बल के साथ पहुंच गए।जिन्हें देखते वो गाड़ी छोड़ फरार हो गया।पटरंगा थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह ने कहा कि मामले पशु क्रूरता का अपराध दर्ज कर इस तस्करी में सामिल लोगों का पता लगाया जा रहा है।ईनहाने बताया ट्रक से 16 गोवंशीय पशु बरामद हुए थे जिनमें से एक कि मौत गाड़ी में ही हो गई थी।शेष अन्य को पशु चिकित्सा अधिकारी सी0वी0 वर्मा के उपचार के बाद गोशाला में छोडवा दिया गया है।

मुखविर फेल,कड़ी निगहबानी में भी तस्कर वेखौफ

राम मंदिर फैसला आने के बाद जिले की सभी सीमाओं पर संदिग्ध वाहनों की सघन तलाशी भी की जाती है जगह जगह आरटीओ की टीम भी भारी वाहनों की निगहबानी करते है। कहना गलत न होगा कि उत्तर प्रदेश पुलिस का सूचना तंत्र आज इतना कमजोर हो गया है कि गोवध जैसे अपराध में लिप्त तस्करों पर शिकंजा कसने में पूरी तरह नाकाम हो रहे है।जबकि हाइवे की निगहबानी के लिए इस समय पुलिस आरटीओ सहित कई गुप्त एजेंसियां व उनके मुखविर लगे हुए है बावजूद गो-तस्कर वेखौफ होकर अपने धंधे को अंजाम दे रहे है।

राजमार्गों से इतर लिंक मार्गो से होती है तस्करी

गोवध के मामले लिप्त तस्कर राजमार्ग के साथ साथ इससे इतर मार्गो से भी गोवंश पशुओं को तस्करी के लिए ले जाते है।अभी दो माह पूर्व ऐसे हो गोवंश से भरे एक कंटेनर को रानाही पुलिस ने बरामद किया था।तस्कर इन मार्गो को अक्सर भोर में इस्तेमाल करते है और उस समय पुलिस भी गहरी निद्रा में होती है।ऐसे राजमार्ग के साथ साथ इससे इतर लिंक मार्ग भी गोतस्करों के लिए मुफीद साबित होते है।

लाभ के कारण ढीला हो जाता है पुलिस का शिकंजा

हाइवे से वेखौफ होकर गोवंशीय पशुओं की तस्करी का ये कारनामा कही न कही हमारी मित्र पुलिस की उदाशीनता से भी होता है।जिनका तनिक से लाभ के चक्कर मे अक्सर शिकंजा ढ़ीला पड़ जाता है।नही तस्करों की क्या मजाल दिन रात हाइवे व लिंक मार्गो पर तैनात रहने वाली खाकी की मौजूदगी के बावजूद ये तस्कर खुलेआम गाड़ियों में भरकर गोवंशीय पशुओं को वध के लिए ले जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News