Kkc नयूज ! एपको इंफ्राटेक कंपनी द्वारा तीव्र गति से किया जा रहा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण

0

लखनऊ : देश के सबसे लम्बे एक्सप्रेस-वे “पूर्वांचल एक्सप्रेस” का निर्माण बहुत तेजी से चल रहा है।इसके निर्माण में लगी लगभग सात कंपनियों को आठ पैकेज में काम दिया गया है। इन कम्पनियों में एनसीसी, एपीसीओ, एल एंड टी के साथ पीएनसी, गायत्री प्रोजेक्ट्स, एफकॉम और रिलायंस इंफ़्रा का नाम हैं। इन सातों कम्पनियों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का ठेका दिया गया हैं।इसके आठों पैकेज पर काम करने वाले बिल्डरों का चयन लोएस्ट बिडर के तौर पर कर लिया गया था।मिली जानकारी के मुतविक पहले पैकेज के लिए मेसर्स एनसीसी लिमिटेड और दूसरे पैकेज के लिए मेसर्स एपको इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड बिडर रहे।जिसमे एपको इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा एक्सप्रेस-वे पर निर्माण कार्य बहुत तेजी से किया जा रहा है।इस कंपनी का कहना कि वो मानक के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण एक्सप्रेस-वे में मिले लक्ष्य के अनुरूप वर्ष 2020 तक कार्य को पूरा करेगा।शनिवार को इस कंपनी के जेएमडी विनोद कुमार सिंह अचानक एक्सप्रेस-वे पर पहुंचे और प्रोजेक्ट मैनेजर सहित अन्य अधिकारियों कर्मचारियों को कार्य में तेजी लाने का सख्त निर्देश दिया।बता दें कि लखनऊ से बलिया तक का यह एक्सप्रेस-वे 350 किमी लंबा होगा। इस लिहाज से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे देश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा। ये एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चंदसराय से आरंभ होकर जिला गाजीपुर के हैदरिया तक जाएगा।इस एक्सप्रेस-वे से सरकार पूर्वांचल राज्यों को मध्य उत्तर प्रदेश से जोड़ने की तैयारी में हैं।जो इस प्रोजेक्ट के साथ आसान हो जायेगा।इसे वाराणसी से अलग लिंक रोड के माध्यम से भी जोड़ा जाएगा।इस योजना में 9 जिले लखनऊ, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, बाराबंकी, अमेठी, मऊ और गाज़ीपुर शामिल होंगे।इसके बारे में 10 खास बातें- 1. यह 6 लेन चौड़ा होगा। इसका विस्तार 8 लेन तक किया जा सकेगा।
2. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अंबेडकरनगर, फैजाबाद, सुल्तानपुर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर से होकर गुजरेगा।
3. इस प्रोजेक्ट पर 23,349 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। यह करीब 3 सालों में पूरा होगा।
4. एक्सप्रेस वे की कुल लंबाई 341 किलोमीटर होगी। यह लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे और दिल्ली-आगरा को जोड़ने वाले यमुना एक्सप्रेस-वे से भी लिंक होगा। यानी इसके बनने से दिल्ली से पूर्वी यूपी आने-जाने में लगने वाला समय काफी कम हो जाएगा। ये एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चंदसराय गांव से गाजीपुर के हैदरिया गांव तक बनेगा।
5. यह एक अलग लिंग से वाराणसी से भी जुड़ेगा। 6. हाईवे के आसपास कृषि, मण्डी, कोल्ड स्टोरेज, इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, पर्यटन, दुग्ध आधारित उद्योगों, फूड प्रोसेसिंग यूनिट, हैंडलूम उद्योग का विकास होगा।
7. एक्सप्रेस वे के राइट ऑफ वे की चौड़ाई 120 मीटर, जिससे एक ओर 3.75 मी. चौड़ाई के सर्विस रोड का निर्माण होगा।
8. हाईवे पर 10 किमी. दूरी पर स्थित ग्रामों की मुख्य मार्ग से कनेक्टिविटी होगी।
9. परियोजना के लिए करीब 93 प्रतिशत भूमि पर कब्जा पूरा हो चुका है।
10. सुल्तानपुर जिले में आपात स्थिति में एयर फोर्स के लड़ाकू विमान उतर सके, इसके लिए एक एयर स्ट्रिप (हवाई पट्टी) भी बनाई जाएगी। इसकी लंबाई 4.70 किमी. होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

error: Content is protected !! © KKC News