हाथरस कांड: परिवार को नहीं सौंपा गया पीड़िता का शव,बिना रीति रिवर पुलिस ने स्वयं रात में किया अंतिम संस्कार

पुलिस और प्रशासन के इस रवैये से परिजनों व ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। इतना ही नहीं मीडिया को भी कवरेज से रोक दिया गया और बदसलूकी की गई।

ये अन्याय,अत्याचार और अमानवीयता की पराकाष्ठा।हाथरस की गुड़िया का पुलिस ने जबरन अंतिम संस्कार कर दिया।मां-बाप बिलखते रहे।लेकिन पुलिस निर्दयी बन गई,पुलिस ने खुद ही अंतिम संस्कार कर दिया।आखिर पुलिस को ये हक किसने दिया? किसको बचाने के लिए इतनी निर्लज्जता ?

हाथरस ! उत्तर प्रदेश के हाथरस जनपद के चंदपा क्षेत्र के बुलगाड़ी में कथित गैंगरेप की शिकार पीड़िता की मौत के बाद पुलिस और जिला प्रशासन का शर्मनाक चेहरा सामने आया है।दिल्ली से शव लाने के बाद पुलिस ने उसे परिवार को नहीं सौंपा और रात में ही बिना रीति रिवाज के पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया।पुलिस और प्रशासन के इस रवैये से परिजनों व ग्रामीणों में भारी आक्रोश है।इतना ही नहीं मीडिया को भी कवरेज से रोक दिया गया और बदसलूकी की गई।
इससे पहले जब शव गांव पहुंचा तो उसे परिजनों को नहीं सौंपा गया।इसके बाद परिजनों ने एम्बुलेंस के सामने लेटकर आक्रोश जताया।इस दौराम एसडीएम पर परिजनों के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा।इसके बाद पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई।दरअसल परिजन रात में शव का अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते थे।जबकि पुलिस तुरंत अंतिम संस्कार कराना चाहती थी।इसके बाद आधी रात के बाद करीब 2:40 बजे बिना किसी रीति रिवाज के और परिजनों की गैरमौजूदगी में पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

शव का चेहरा भी नहीं देख पाए परिजन

मृतका के चाचा भूरी सिंह ने कहा कि पुलिस दबाव बना रही थी कि शव का अंतिम संस्कार कर दें।जबकि बेटी के मां-बाप और भाई कोई भी यहां मौजूद नहीं है।वे लोग दिल्ली में ही हैं और अभी पहुंचे भी नहीं हैं। रात में अंतिम संस्कार न करने और परिवार का इंतजार करने की बात कहने पर पुलिस ने कहा कि अगर नहीं करोगे तो हम खुद कर देंगे।और वही हुआ पुलिस ने जबरन अंतिम संस्कार कर दिया।

जगह-जगह विरोध प्रदर्शन

पीड़िता की मौत के बाद तमाम सियासी दलों ने जमकर सरकार पर निशाना साधा।भीम आर्मी ने तो सफदरजंग अस्पताल पहुंचकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। समाजवादी पार्टी, बसपा और कांग्रेस ने भी राजनीतिक रोटियां सेकीं. इस बीच, प्रदेश के कई जिलों में लोगों ने पीड़िता के समर्थन में कैंडल मार्च निकालकर न्याय की गुहार लगाई।

मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं

विपक्षी दलों के विरोध और मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन करते हुए आईजी पीयूष मोडिया ने बताया कि मेडिकल जांच में रेप की पुष्टि नहीं हुई है. साथ ही ट्विटर पर मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन छापते हुए पुलिस ने कहा कि न जीभ काटी गई थी और न ही रीढ़ की हड्डी टूटी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News