मस्जिद के शिलान्यास पर बोले योगी- मुझे कोई बुलाएगा नहीं और मैं जाऊंगा नहीं

मस्जिद के शिलान्यास पर बोले योगी- मुझे कोई बुलाएगा नहीं और मैं जाऊंगा नहीं

मुझे कोई बुलाएगा नहीं और मैं जाऊंगा भी नहीं: सीएम योगी

मैं अपने कार्य को हमेशा धर्म मानकर चलता हूं: सीएम योगी

अयोध्या। राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम के बाद उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से खास बातचीत की।सीएम योगी ने राम मंदिर, कोरोना और अयोध्या में मस्जिद निर्माण जैसे मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी।मस्जिद के शिलान्यास पर सीएम योगी ने कहा कि मुझे कोई बुलाएगा नहीं, और मैं जाऊंगा भी नहीं। सीएम योगी से सवाल किया गया कि विरोधी कह रहे हैं कि आपने सभी धर्मों के लोगों को राम मंदिर के भूमिपूजन में बुलाया और सब आए। लेकिन आने वालों दिनों में जब अयोध्या में मस्जिद का निर्माण शुरू होगा, तो कहा जा रहा है कि कि सीएम योगी वहां नहीं जाएंगे।इसपर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मेरा जो काम है वो काम मैं करूंगा. और मैं अपने कार्य को हमेशा कर्तव्य और धर्म मानकर चलता हूं मैं जानता हूं कि मुझे कोई बुलाएगा नहीं इसलिए मैं जाऊंगा भी नहीं।बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ भूमि दिए जाने का फैसला दिया था यूपी सरकार ने 5 फरवरी को ही अयोध्या जिला मुख्यालय से 18 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम धन्नीपुर तहसील सोहावल में थाना रौनाही से लगभग 200 मीटर पीछे 5 एकड़ जमीन मस्जिद के लिए आवंटित की थी. यहीं पर मस्जिद का निर्माण होना है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के ‘राम सबके हैं’ के बयान पर भी प्रतिक्रिया दी उन्होंने कहा कि राम सभी के हैं, हम पहले से ही कहते रहे हैं. ये सदबुद्धि पहले भी आनी चाहिए थी। अयोध्या में विकास कार्य को लेकर सीएम योगी ने कहा कि आज अयोध्या में हर तरह की सुविधाएं दी जा रही हैं और लोगों को काम दिया जा रहा है. बतौर सीएम मैं कई बार अयोध्या आ चुका हूं. पहले के मुख्यमंत्री यहां पर आने से कतराते थे. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आज लोकतंत्र में जनभावना का सम्मान करना होगा, विकास के मुद्दों पर भी और अन्य मुद्दों पर भी
(2)

सियावर रामचन्द की जय, इसकी गूंज अयोध्या ही नहीं पूरे विश्व में दे रही सुनाई- मोदी

कहा राम काज कीन्हे बिनू मोहि कहां विश्राम

भगवान भाष्कर के सानिध्य में सरयू के किनारे लिख रहा है स्वर्णिम इतिहास

अयोध्या। रामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन के लिए जैसे ही भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंच पर आये उन्होने प्रभु श्रीराम व माता सीता के नाम का जयघोष किया। उन्होने यह भी कहा कि राम काज कीन्हे बिनु मोहि कहां विश्राम। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि प्रभु राम व माता सीता के नाम का इस जयघोष की गूंज पूरे विश्व में सुनाई दे रही है। विश्व भर के रामभक्तों को इस अवसर पर बहुत बहुत बधाई।
उन्होने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने उन्हें आमंत्रित किया। इस ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने का अवसर दिया। इसके लिए श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का आभार व्यक्त करता हूं। रामकाज कीन्हे बिनु मोहि कहां विश्राम। भगवान माष्कर के सानिध्य में सरयू के किनारे एक स्वर्णिम इतिहास लिखा जा रहा है।

(3)
15 अगस्त आजादी व 5 अगस्त रामभक्तों के त्याग व संकल्प का प्रतीक : नरेन्द्र मोदी

कहा उनको 130 करोड़ भारतवासियों की ओर से सिर झुका कर करता हूं नमन

इमारतें नष्ट हो गयी, हमारे अस्तित्व को मिटाने का प्रयास हुआ पर राम हमारे मन में है बसे

अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता आन्दोलन को रामजन्मभूमि मुक्ति आन्दोलन से जोड़ा। उन्होने कहा कि स्वतंत्रता आन्दोलन में कई पीढ़ियों ने अपना सबकुछ समर्पित कर दिया। गुलामी के कालखण्ड में कोई समय, भूभाग नहीं बचा जहां आजादी के लिए बलिदान न हुआ हो। 15 अगस्त का दिन स्वतंत्रता की उत्कंठ इच्छा का प्रतीक है। उसी तरह राममंदिर के लिए कई पीढ़ियों ने प्रयास किया। आज का दिन उसी त्याग व संकल्प का प्रतीक है।
उन्होने कहा कि राममंदिर के लिए चले आन्दोलन में जिन्होने अपना सबकुछ समपर्ण कर दिया। जिनके त्याग, बलिदान व संघर्ष से देखा गया स्वप्न आज साकार हो रहा है। जिनकी तपस्या राममंदिर की नींव की जगह जुड़ी है। उनको 130 करोड़ भारतीयों की ओर से सिर झुका कर नमन करता हूं। राममंदिर से जुड़ा व्यक्ति जो जहां है इस आयोजन को देख रहा है। भाव विभोर है। राम हमारे मन में बसे है। इमारतें नष्ट होगयी। अस्तित्व मिटाने का हर प्रयास हुआ। राम हमारी संस्कृति का आधार है। आज पूरा भारत राममय है। पूरा देश रोमांचित है। पूरा भारत भावुक है। सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है। करोड़ो लोगो को आज विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि वह अपने जीते जी इस पावन क्षण का दर्शन कर पायेंगें। भगवान रामलला के मंदिर का निर्माण होगा। सदियों से चल रहे संघर्ष के बाद आज रामजन्मभूमि मुक्त हुई है।

राममंदिर निर्माण से अयोध्या की भव्यता ही नहीं बढ़ेगी बल्कि बदल जायेगा इस क्षेत्र का अर्थतंत्र : मोदी

राममंदिर का निर्माण राष्ट्र को जोड़ने का उपक्रम, अहिंसा व न्यायप्रिय भारत की अनुपम भेंट
राष्ट्रीय भावना व करोड़ो लोगो के सामूहिक संख्या शक्ति का प्रतीक है राममंदिर
अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अयोध्या राममंदिर निर्माण को यहां के विकास व पयर्टन की सम्भावनाओं से होने वाली समृद्धि से जोड़कर देखा। उन्होने कहा कि इस मंदिर के निर्माण से यहां की भव्यता ही नहीं बढ़ेगी बल्कि इस क्षेत्र का पूरा अर्थतंत्र बदल जायेगा। हर क्षेत्र में नये अवसर होंगे। पूरी दुनियां से लोग यहां प्रभु श्रीराम व माता जानकी का दर्शन करने आयेंगे।
उन्होने कहा कि राममंदिर निर्माण राष्ट्र को जोड़ने का उपक्रम है। विकास को विद्यमान से, नर को नारायण से, लोक को आस्था से जोड़ रहा है। आज का दिन सत्य अहिंसा, बलिदान व न्यायप्रिय भारत की एक अनुपम भेंट है। कोरोना के कारण आज जिस तरह की मर्यादा का प्रदर्शन होना चाहिए वैसा किया है। इस प्रकार की मर्यादा का प्रदर्शन लोगो ने तब किया था जब सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था।
उन्होने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए आज भूमि पूजन हुआ है। यहां आने से पहले हनुमान जी का दर्शन किया। राम के सब काम हनुमान जी ने ही कराये है। हनुमान जी के आशीर्वाद से रामजन्मभूमि पर भूमि पूजन का कार्य शुरु प्रारम्भ हुआ। राम मंदिर हमारी आस्था, राष्ट्रीय भावना व करोड़ो लोगो के सामूहिक संख्या शक्ति का प्रतीक है।

(4)

मोदी के ‘भय बिनु होहिं न प्रीति’ कथन से पाकिस्तान व चाईना को गया कड़ा संदेश

मोदी ने कहा कि भारत की सामूहिकता की शक्ति पूरी दुनिया के लिए शोध का विषय

जब जब हमने राम को माना है तो विकास हुआ, जब भटके है तो विनाश हुआ

अयोध्या। रामजन्मभूमि पर भूमि पूजन के बाद अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जैसे ही यह कहा कि भय बिनु होहिं न प्रीति इससे पाकिस्तान व चाईना को सीधा संदेश गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारा देश जिनता ताकतवर होगा उतना ही मैत्री भाव बढ़ेगा। महात्मा गांधी ने इन्हीं मंत्रों के सहारे रामराज्य का सपना देखा था। भगवान राम समय, स्थान व परिस्थितियों के हिसाब से काम करते थे। राम ने अपने कर्तव्य का पालन किया। हमने जब जब राम को माना है तब विकास हुआ है जब भटके है तो विनाश हुआ है।
उन्होने कहा कि गिलहरी व वानर भगवान राम की विजय का आधार बने, छोटे ग्वालों ने गोवर्धन उठाने में कृष्ण के साथ बड़ी भूमिका निभाई, शिवाजी, राजा सुहैलदेव के गरीब व पिछड़े सम्बल बने। समाज के हर वर्ग ने महात्मा गांधी के साथ आजादी की लड़ाई में योगदान दिया। देश भर के लोगो ने राममंदिर के निर्माण में अपना सहयोग दिया। राममंदिर निर्माण का काम शुरु हुआ तो पत्थरों में श्रीराम लिखकर लोगो ने हर जगह से श्रद्धापूवर्क भेजा। कई जगह की मिट्टी, नदियों का जल भेजा। न भूतो न भविष्यति। भारत के लोगो की सामूहिकता की अमोघ शक्ति पूरी दुनिया के लिए शोध का विषय है। राम का चरित्र जिस बिन्दु पर घूमता है वह है सत्य पर अडिग रहना। इसलिए वह युगो से भारत के स्तम्भ बने हुए है।
(5)

रामचरित मानस का अखंड पाठ का आयोजन

रुदौली। मोहल्ला पूरे काजी शिवपुरम स्थित नंदेश्वर महादेव मंदिर पर समस्त मोहल्ला वासियों की तरफ से रामचरित मानस का अखंड पाठ का आयोजन करते हुए समस्त मोहल्ले में दीपावली जैसा माहौल अखंड पाठ समाप्त होने के बाद 51 किलो लड्डू का भोग भगवान शिव को लगाया भगवान श्री राम के जयघोष से पूरा मोहल्ला गुंजायमान हो गया इस मौके पर राजकिशोर ,विंध्यवासिनी मिश्रा ,किरण चंद मिश्रा ,अभय मिश्रा, लल्ला यादव ,नीरज मिश्रा ,सतनारायण, श्याम जी ,मोहित गुप्ता पुल्लू कसौधन , अमन ,अरविंद, मिथुन ,मोहित गुप्ता, हर्षित ,राजकुमार यादव ,राकेश गुप्ता ,राजन गुप्ता ,राहुल गुप्ता शंकर मिश्रा सहित गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

(7)
भूमि पूजन होने पर पटाखे दागे तथा लड्डू बांटकर मनाई खुशियां
फोटो नम्बर 114
बीकापुर। अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण का प्रधानमंत्री द्वारा भूमि पूजन किए जाने के ऐतिहासिक पल का गवाह बनने के लिए हर कोई बेचैन रहा। श्री राम जन्मभूमि कर मंदिर निर्माण के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री द्वारा किए गए भूमि पूजन पर बीकापुर क्षेत्र में भी उत्सव का माहौल रहा। बीकापुर बाजार में युवाओं और लोगों ने भूमि पूजन होने पर पटाखे दागे तथा लड्डू बांटकर खुशियां मनाई। इस मौके पर राहुल दुबे, राजेश तिवारी एडवोकेट, अरुण मिश्रा, घनश्याम तिवारी, पुष्पेंद्र मिश्रा, आलोक सिंह, दिग्विजय सिंह, गौरव गुप्ता, राजन पांडे, शिवकुमार साहू, अजय शर्मा सहित तमाम लोग शामिल रहे। बीकापुर तहसील में अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष उमेश प्रसाद पांडेय और अधिवक्ताओं ने खुशी में मिठाईयां बाटी और एक दूसरे को बधाई दिया। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के वनवास यात्रा से जुड़े धार्मिक स्थल दूधेश्वर नाथ सीता कुंड पर अखंड रामायण के समापन पर प्रसाद वितरण का कार्यक्रम संपन्न हुआ इस दौरान सुरेश चंद्र पांडे अरश दूबे सहित तमाम राम भक्त शामिल रहे। भगवान राम की बनवास यात्रा से जुड़े कमरिहा बाबा तारडीह गांव में भी धार्मिक अनुष्ठान ग्राम प्रधान हरिश्चंद्र निषाद की अगुवाई में संपन्न हुआ तथा प्रसाद का वितरण किया गया, सूर्यकुंड रामपुरभगन, रामकुंड पोहपी, खंडेश्वरी सागर चौरे बाजार पर भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसके अलावा बीकापुर कस्बे में स्थित शिव पार्वती मंदिर, दराब गंज स्थित राम जानकी मंदिर तथा क्षेत्र के चौरे बाजार, जाना बाजार, खजुरहट, कोछा बाजार, शाहगंज, रामपुरभगन, शेरपुर पारा, काजी सराय, बल्लीपुर सहित पूरे क्षेत्र में स्थित विभिन्न देवी-देवताओं के मंदिरों में रामचरितमानस पाठ, सुंदरकांड पाठ, भजन कीर्तन और पूजा अर्चना की गई। इस ऐतिहासिक पल पर धार्मिक कार्यक्रम में लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कोतवाली के पुलिसकर्मी पेट्रोलिंग करती रही। उसके पहले दोपहर में भूमि पूजन का लाइव प्रसारण होने से लोग अपने घरों में टेलीविजन से चिपके रहे और भूमि पूजन के धार्मिक कार्यक्रम को देखा। बीच-बीच में विद्युत आपूर्ति बाधित होने से लोगों में कुछ मायूसी दिखी। शाम को श्रद्धालुओं और राम भक्तों द्वारा अपने-अपने घरों में राम मंदिर भूमि पूजन होने की खुशी में दिवाली मनाई जा रही है तथा दीपक जलाए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News