बाराबंकी :अचानक घर से लापता बच्चे का पेड़ से लटकता मिला शव,हत्या की आशंका में तीन नामजद

दरियाबाद (बाराबंकी) ! 11 साल के बच्चे का शव पेड़ की टहनी से लटका मिला। संदिग्ध हालातों में बच्चे की मौत से पूरे गांव में सनसनी फैल गई। परिजनों ने गांव के ही कुछ लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। बच्चे की मौत से परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। घटना दरियाबाद थाना क्षेत्र की है।
दरियाबाद थाना क्षेत्र के ग्राम जठौती राजपूतान राघवेन्द्र सिंह का 11 साल का पुत्र मनीष सिंह गुरुवार को अचानक घर से लापता हो गया था। परिजनों ने सोचा कि कहीं खेल रहा होगा। इस दौरान करीब 11 बजे परिजनों को गांव के कुछ लोगों ने सूचना दी कि उनके अहाते के पास लगे पीपल के पेड़ की टहनी में लटका है। यह खबर सुनते ही परिजनों में कोहराम मच गया। रोते बिलखते हुए परिजन मौके पर पहुंच गए। सूचना पाने के बाद दरियाबाद पुलिस पहुंच गई। ग्रामीणों की भीड़ भी मौके पर लग गई। पुलिस ने हर पहलू से घटना स्थल की जांच की। शव अंगोछे से लटका था। टहनी बहुत अधिक ऊंचे स्थान पर नहीं थी। पुलिस ने शव को उतरवाने के बाद परिजनों को भरोसा दिलाया कि मामले का खुलासा होगा।

परिजनों को हत्या की आशंका,तीन लोगों को किया नामजद।

इस मामले में मृत बच्चे के पिता राघवेन्द्र सिंह ने गांव के ही विजय बहादुर सिंह के पुत्र अजय, अमित व ललित सिंह के खिलाफ नामजद तहरीर देते हुए आरोप लगाया है कि इन के परिवार से काफी पुरानी दुश्मनी है। इसी वजह से इन लोगो ने उसके पुत्र को मार कर अंगौछे से बांध कर पेड़ पर लटका दिया है। इस संबंध में थाना प्रभारी शक्ति कान्त यादव का कहना है कि तहरीर मिली है। शव को पोस्टमर्टम के लिए भेजा जा रहा है। पीएम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

काश मनीष स्कूल चला गया होता तो बच जाती जान

घटना के बाद से ही मृत छात्र मनीष के घर में कोहराम है। मनीष कक्षा तीन का छात्र था और क्षेत्र के ही एक स्कूल में पढ़ता था। परिजन रो रो कर यहीं कह रहे थे कि काश वह स्कूल चला गया होता। मनीष की मौत की सूचना मिलने के बाद उसके स्कूल का माहौल भी शोकाकुल हो गया।

मृतक के परिजनों व आरोपियों के बीच चल रही थी रंजिश।

राघवेन्द्र के व आरोपियों के परिवार के मध्य काफी पुरानी दुश्मनी चली आ रही है। पीड़ित राघवेंद्र सिंह के अनुसार उसके बाबा अपनी ननिहाल में आकर रह रहे थे। आरोपी विजय बहादुर सिंह का परिवार उसके ननिहाल के पट्टीदारी का परिवार है ।और उन लोगो ने बाग के स्वामित्व का विवाद चल रहा है जिसमे सन 1999 में आरोपियों ने उनके ऊपर गोलीबारी भी की थी इसके अलावा साल 2014 में आरोपियों ने जानवरो के बाड़े में भी आग लगा दी थी इसके बाद भी कोई कार्रवाही न होने की वजह से आरोपियों के हौसले बुलंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !! © KKC News